DA Image
24 सितम्बर, 2020|4:30|IST

अगली स्टोरी

Pitrupaksh 2020: इन संकेतों की न करें अनदेखी, जानें क्या कहते हैं पितरों से जुड़े हैं ये संकेत

श्राद्ध पक्ष अश्विन मास की पूर्णिमा से शुरू होते हैं। इस बार पितृपक्ष 2 सितंबर से 17 सितंबर तक हैं। कहते हैं कि इन दिनों में पूर्वज अपने घर आते हैं। उनके श्राद्ध तिथि के दिन उनका तर्पण करने से वे तृप्त होकर जाते हैं। वहीं जो लोग इन दिनों में श्राद्ध नहीं करते उन्हें पितृदोष लगता है। ऐसा कहा जाता है कि कुछ बातें संकेत होती हैं कि आपके पितर आपसे खुश नहीं, इसलिए उन संकतों को समझकर पितरों का अच्छे से तर्पण करना चाहिए। आइए जानते हैं क्या हैं वे लक्षण: 

Sarv Pitru Amavasya 2020: इस तारीख को है सर्व पितृ अमावस्या, पितरों को दी जाती है विदाई

1.घर से दुर्गंध आना: अगर आपके घर से बिना किसी कारण विशेष प्रकार की दुर्गंध आती है तो इसे पितृदोष का संकेत माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि ये आपके पितरों के आपसे खुश न होने का संकेत हैं। इसलिए पूरे विधि-विधान से हमें पितरों का तर्पण करना चाहिए। 

इन तीन राशियों पर शनि देव की रहती है अच्छी दृष्टि, इन पर हमेशा बरसाते हैं कृपा

2.कहते हैं श्राद्ध के दिनों में जब पितर तृप्त होकर जाते हैं तो अपने परिजनों को खूब आशीर्वाद दे जाते हैं। इससे उनका जीवन सुखमय बीतता है। इसके विपरीत अगर आप श्राद्ध कर्म नहीं करते तो आपको जीवन में दुख उठाने पड़ते हैं। खासकर आपका कोई शुभ काम हो, उसके बीच में लगातार अड़चने आने लगेगीं। 

Adhik Maas 2020: सर्वार्थसिद्धि से अमृतसिद्धि योग तक, इस साल अधिक मास में बन रहे कई शुभ संयोग

3.इसके साथ ही अगर परिवार में किसी भी बात के बिना लड़ाई-झगड़ा होती है तो ये भी पितृदोष का ही एक लक्षण है। इसलिए इन सभी से बचने के लिए हमें पितरों का विधि-विधान से तर्पण करना चाहिए। 

4.सांप का सपने में आना: ऐसा भी कहा जाता है कि अगर आपके सपने में बार-बार सांप आ रहे हैं तो यह भी पितृदोष का ही एक लक्षण होता है। सांप को पूर्वजों का रूप माना जाता है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pitrupaksh 2020: Do not ignore these signs know what these signs are related to Pitra