ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मफूलों के इस त्योहार से होती है होली की शुरुआत 

फूलों के इस त्योहार से होती है होली की शुरुआत 

फाल्गुन माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को फूलेरा दूज का त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार को होली का आगमन माना जाता है। श्रीराधा-कृष्ण को समर्पित इस त्योहार को लेकर मान्यता है कि इस दिन कोई भी...

फूलों के इस त्योहार से होती है होली की शुरुआत 
Arpanलाइव हिन्दुस्तान टीम ,meerutWed, 02 Mar 2022 11:49 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

फाल्गुन माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को फूलेरा दूज का त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार को होली का आगमन माना जाता है। श्रीराधा-कृष्ण को समर्पित इस त्योहार को लेकर मान्यता है कि इस दिन कोई भी शुभ कार्य बिना किसी मुहूर्त किया जा सकता है। फुलेरा दूज पूर्ण रूप से दोषमुक्त दिन माना जाता है। कहा जाता है कि भगवान इस दिन फूलों से खेलते हैं। इसीलिए इसे फुलेरा दूज कहा जाता है। इसे फूलों का त्योहार भी कहते हैं। फुलेरा दूज के दिन श्रीराधा कृष्ण की पूजा अवश्य करनी चाहिए, ऐसा करने से जीवन में आ रही सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं। 

इस दिन श्रीराधाकृष्ण मंदिर में जाकर पीले वस्त्र, पीली मिठाई और पीले पुष्प अर्पित करें। ऐसा करने से विवाह में आ रही अड़चनें दूर हो जाती हैं। इस दिन ब्रज में फूलों की होली खेली जाती है। श्रीराधा कृष्ण का फूलों से शृंगार किया जाता है और उनकी विशेष पूजा अर्चना की जाती है। मान्यता है कि फुलेरा दूज के दिन जो भी भक्त श्रीराधा-कृष्ण की सच्चे मन से आराधना करते हैं उनकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। यदि वैवाहिक जीवन में परेशानी है तो अपनी समस्या को एक कागज पर लिखकर फुलेरा दूज के दिन श्रीराधा और कृष्ण के चरणों में अर्पित कर दें। ऐसा करने से समस्त परेशानियां शीघ्र दूर हो जाएंगी। फुलेरा दूज ऐसा दिन है जिस दिन विवाह करना सर्वोत्तम माना जाता है। माना जाता  है कि इस दिन विवाह करने से दंपति को भगवान श्रीकृष्ण और राधा रानी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस दिन भगवान को पीले पुष्प, मिठाई और पीले वस्त्र अर्पित करें। अगर नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो इससे बेहतर दिन नहीं हो सकता। मान्यता है कि इस दिन श्रीराधा कृष्ण से जो मांगा जाए वह मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है। इस दिन रंगीन वस्त्र धारण करें। वैवाहिक जीवन में मधुरता के लिए पीले वस्त्र धारण करें। भगवान श्रीकृष्ण और राधा रानी को मीठे पकवान का भोग लगाएं। 

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। 

epaper