अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

surya grahan 2018: आंशिक सूर्यग्रहण आज, जानें इसका वैज्ञानिक कारण और महत्व

surya grahan 2018

साल का तीसरा और आखिरी सूर्यग्रहण आज यानि 11 अगस्त को पड़ेगा। यह ग्रहण आंशिक होगा। यह ग्रहण तीन घंटे तक पड़ेगा जिसे यूरोप, अमेरिका और उत्तरी एशिया के कुछ दे्शों में देखा जा सकेगा। चूंकि यह ग्रहण आंशिक है ऐसे में चंद्रमा सूर्य के 65 भाग को ही ढक पाएगा।


सूर्य ग्रहण क्यों होता है? जानें वैज्ञानिक कारण-
सूर्यग्रहण तब होता है जब पृथ्वी चंद्रम और सूर्य एक की सीधी रेखा में हों और चंद्रमा पृथ्वी व सूर्य के बीच आ जाए। चूंकि चंद्रमा कुछ देर के लिए पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाता है जिससे सूर्य का पृथ्वी के कुछ हिस्से पर दिखाई नहीं देता। इसी को ग्रहण कहते हैं। लेकिन जब सूर्य को चंद्रमा पूरा नहीं ढकता, उसका कुछ हिस्सा ही ढकता ऐसे में इसे आंशिक सूर्यग्रहण कहते हैं।


सूर्य ग्रहण का समय (भारत में)-

टाइम एंड डेट डॉट कॉम वेबसाइट के अनुसार यह भारत के समयानुसार दोपहर 01:32:08 बजे शुरू होगा। दोपहर करीब 03:16:24 मिनट पर यह मैक्सिमम होगा और शाम 5 बजे यह समाप्त हो जाएगा। आपको बता दें कि सूर्य ग्रहण हमेशा चंद्र ग्रहण के दो सप्ताह पहले या बाद में लगता है। इस बार सूर्य ग्रहण का समय कुल 3 घंटे 30 मिनट तक होगा।

भारत में नहीं दिखेगा ग्रहण-
यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि भारत में न दिखने के कारण इसका कोई खास असर देखने को नहीं मिलेगा। सूर्य ग्रहण को देखने के शौकीन लोग नासा या अन्य के द्वारा किए जाने वाले ऑनलाइन टेलीकास्ट के जरिए इंटरनेट पर लाइव देख सकेंगे। फिर भी इसका सूतक काल माना जाएगा। सूतक काल में मंदिरों के कपाट बंद रहते हैं और वहां पूजा अर्चना की मनाही होती है। गर्भवती महिलाओं को भी इस दौरान घर से बाहर न निकलने की मान्यता है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:partial solar eclipse 2018 to be held on 11 august know its significance timing and sutak kal and more