DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाशिवरात्रि: इस दिन से हुआ सृष्टि का आरंभ  

तीनों लोक के स्वामी भगवान शिव का सबसे बड़ा त्योहार महाशिवरात्रि है। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि पर्व को लेकर मान्यता है कि सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ। यह भी माना जाता है कि इसी दिन भगवान शिव का विवाह देवी पार्वती से हुआ। 

मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव, पृथ्वी पर उन सभी जगहों पर होते हैं, जहां-जहां उनके शिवलिंग हैं। समुद्र मंथन के समय निकले विष को महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव ने अपने कंठ में धारण किया था। मान्यता है कि इस दिन पहला शिवलिंग प्रकट हुआ था। इस शुभ दिन भगवान शिव का अभिषेक अनेक प्रकार से किया जाता है। शिवपुराण के अनुसार भोले बाबा का अभिषेक गंगाजल या दूध से कर उन्हें प्रसन्न किया जा सकता है। ऊं नमः शिवाय ऐसा मंत्र है जिसे जाप में सर्वोत्तम स्थान प्राप्त है। महाशिवरात्रि का व्रत सभी पापों का क्षय करने वाला है। भगवान शिव के पूजन से सभी रोग और शारीरिक दोष समाप्त हो जाते हैं। 

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैंजिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Origin of nature from this day