ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyNirjala Ekadashi 2024 Can you start Ekadashi fast from Nirjala Ekadashi June Astrology in Hindi

Nirjala Ekadashi 2024: क्या निर्जला एकादशी से कर सकते हैं एकादशी व्रत की शुरुआत? जानें व्रत से जुड़ी खास बातें

Nirjala Ekadashi 2024: निर्जला एकादशी को पांडव एकादशी और भीमसेनी एकादशी या भीम एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत करने से जातक की मनोकामना पूरी होती है।

Nirjala Ekadashi 2024: क्या निर्जला एकादशी से कर सकते हैं एकादशी व्रत की शुरुआत? जानें व्रत से जुड़ी खास बातें
Saumya Tiwariलाइव हिन्दु्स्तान टीम,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 12:57 PM
ऐप पर पढ़ें

Nirjala Ekadashi 2024 June: हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्व है। हर महीने दो एकादशी व्रत आते हैं, एक शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में। कहते हैं कि इस व्रत में व्रती अन्न व जल ग्रहण नहीं करते हैं। एकादशी व्रत भगवान विष्णु को समर्पित है, इसलिए इस दिन श्रीहरि की पूजा-अर्चना करना अत्यंत लाभकारी माना गया है। मान्यता है कि इस व्रत को करने से व्यक्ति सभी पापों से मुक्ति पा जाते हैं और सभी सुखों को भोगकर अंत में मोक्ष को जाते हैं। इस साल निर्जला एकादशी 18 जून 2024 को है। इस एकादशी को भीमसेनी एकादशी के नाम से भी जानते हैं। जानें क्या निर्जला एकादशी व्रत से एकादशी व्रत प्रारंभ कर सकते हैं, निर्जला एकादशी व्रत पूजन टाइमिंग व अन्य जरूरी बातें-

एकादशी व्रत कब से प्रारंभ करना चाहिए- ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, एकादशी व्रत की शुरुआत मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी से करनी चाहिए। इस एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन ही भगवान विष्णु ने माता एकादशी से आशीर्वाद प्राप्त किया था और माता ने उनके इस व्रत को पूजनीय बताया था। हालांकि इसके अलावा एकादशी व्रत चैत्र, बैसाख और माघ महीने में भी प्रारंभ किया जा सकता है। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि गुरु तारा व शुक्र तारा उदय का व्रत प्रारंभ करते समय ध्यान रखना चाहिए।

निर्जला एकादशी तिथि कब से कब तक- एकादशी तिथि 17 जून को सुबह 04 बजकर 43 मिनट पर प्रारंभ होगी और एकादशी तिथि का समापन 18 जून 2024 को सुबह 06 बजकर 24 मिनट पर होगा।

निर्जला एकादशी व्रत पारण का समय- निर्जला एकादशी व्रत का पारण 19 जून 2024 को किया जाएगा। व्रत पारण का समय सुबह 05 बजकर 23 मिनट से सुबह 07 बजकर 28 मिनट तक रहेगा। पारण के दिन द्वादशी तिथि समाप्त होने का समय सुबह 07 बजकर 28 मिनट है।