DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Nirjala Ekadashi 2021 : निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें पूजा- विधि, नियम, शुभ मुहूर्त, महत्व और सामग्री का पूरी लिस्ट
पंचांग-पुराण

Nirjala Ekadashi 2021 : निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें पूजा- विधि, नियम, शुभ मुहूर्त, महत्व और सामग्री का पूरी लिस्ट

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Yogesh Joshi
Mon, 21 Jun 2021 05:24 AM
Nirjala Ekadashi 2021 : निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें पूजा- विधि, नियम, शुभ मुहूर्त, महत्व और सामग्री का पूरी लिस्ट

21 जून, 2021, सोमवार को निर्जला एकादशी व्रत है। निर्जला एकादशी को सभी एकादशी में सबसे अधिक श्रेष्ठ माना जाता है। इस दिन व्रत करने से 24 एकादशी व्रत करने के बराबर फल की प्राप्ति होती है। एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। इस दिन विधि- विधान से भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना की जाती है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर माह में दो बार एकादशी पड़ती है। साल में कुल 24 एकादशी पड़ती है। ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को निर्जला एकादशी के नाम से जाना जाता है। हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का बहुत अधिक महत्व होता है। आइए जानते हैं निर्जला एकादशी पूजा- विधि, महत्व, शुभ मुहूर्त और सामग्री की पूरी लिस्ट...

एकादशी मुहूर्त

  • एकादशी तिथि प्रारम्भ - जून 20, 2021 को 04:21 पी एम 
  • एकादशी तिथि समाप्त - जून 21, 2021 को 01:31 पी एम 
  • पारण (व्रत तोड़ने का) समय - 22 जून को, 05:24 ए एम से 08:12 ए एम

Chanakya Niti : शादी से पहले जीवनसाथी के बारे में इन बातों को जान लें, वैवाहिक जीवन रहेगा सुखद

निर्जला एकादशी पूजा- विधि

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करें।
  • अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
  • भगवान की आरती करें। 
  • भगवान को भोग लगाएं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल करें। ऐसा माना जाता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते हैं। 
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी करें। 
  • इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें। 

खर्चीले होते हैं ये राशि वाले, चाहकर भी नहीं बचा पाते हैं पैसा

निर्जला एकादशी महत्व

  • इस पावन दिन व्रत रखने से सभी तरह के पापों से मुक्ति मिल जाती है। 
  • इस व्रत को करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार एकादशी का व्रत रखने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इन शुभ योगों में होगा एकादशी व्रत

  • हिंदू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 21 जून दिन सोमवार को पड़ रही है। इस दिन शिव योग के साथ सिद्धि योग भी बन रहा है। शिव योग 21 जून को शाम 05 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। इसके बाद सिद्धि योग लग जाएगा।

सिद्धि योग 

  • ज्योतिष शास्त्र में सिद्धि योग को बेहद शुभ माना जाता है। यह योग ग्रह-नक्षत्रों के शुभ संयोग से बनता है। यह योग सभी इच्छाओं को पूरा करने वाला माना जाता है। इस योग में किए गए कार्यों में सफलता हासिल होती है।

शुक्र बदलेंगे इन राशियों का भाग्य, 22 जून से होगा धन- लाभ और बढ़ेगा मान- सम्मान

शिव योग

  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शिव का अर्थ शुभ होता है। ज्योतिष शास्त्र में इसे बेहद शुभ योग में गिना जाता है। इस दौरान किए गए कार्यों में शुभ परिणाम प्राप्त होने की मान्यता है। 

इस नियम का पालन है जरूरी

  • निर्जला एकादशी व्रत में जल का सेवन नहीं किया जाता है। व्रत के पारण के बाद ही जल का सेवन किया जाता है। इस दिन जल का त्याग करने का नियम है।

एकादशी पूजा सामग्री लिस्ट

  • श्री विष्णु जी का चित्र अथवा मूर्ति
  • पुष्प
  • नारियल 
  • सुपारी
  • फल
  • लौंग
  • धूप
  • दीप
  • घी 
  • पंचामृत 
  • अक्षत
  • तुलसी दल
  • चंदन 
  • मिष्ठान

 

संबंधित खबरें