ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मNavratri: इन पौधों को लगाने से मां दुर्गा होंगी प्रसन्न, जानें क्या है मान्यता

Navratri: इन पौधों को लगाने से मां दुर्गा होंगी प्रसन्न, जानें क्या है मान्यता

9 दिनों तक चलने वाले इस महापर्व में मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूप की पूजा की जाती है। नवरात्र के पहले दिन घरों में कलश स्थापना की जाती है।

Navratri:  इन पौधों को लगाने से मां दुर्गा होंगी प्रसन्न, जानें क्या है मान्यता
Archana Pathakलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीTue, 27 Sep 2022 06:24 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

नवरात्र को हिंदू धर्म में बहुत पवित्र पर्व माना गया है। 9 दिनों तक चलने वाले इस महापर्व में मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूप की पूजा की जाती है। नवरात्र के पहले दिन घरों में कलश स्थापना की जाती है। कुल 9 दिनों तक चलने वाले इस व्रत में नौवें और आखिरी दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा होती है। आज हम आपको नवरात्र से जुड़े कुछ ऐसे अचूक उपायों के बारे में बताएंगे जिन्हें अपनाकर आप बेहद आसानी से माता रानी को प्रसन्न कर सकते हैं।

शंखपुष्पी का पौधा - माता को शंखपुष्पी के फूल बेहद पसंद है। यदि आप नवरात्रि के समय अपने घर में शंखपुष्पी का पौधा लगाते हैं तो मां दुर्गा बेहद प्रसन्न होती हैं और उनकी कृपा दृष्टि हमेशा आपके घर परिवार पर बनी रहती है।

केले का पौधा - हिंदू धर्म में केले के पत्ते को बेहद शुभ माना गया है। कहा जाता है कि केले के पौधे में स्वयं भगवान विष्णु का वास होता है। जिस घर मे स्वयं भगवान विष्णु का वास होगा वहां देवी लक्ष्मी का भी वास होगा। देवी लक्ष्मी के प्रसन्न होने से घर में कभी भी पैसों की कमी नहीं होगी।


हरसिंगार का पौधा-  हरसिंगार का पौधा देखने में बेहद सुंदर होता है। यदि आप अपने घर में एक हरसिंगार का पौधा लगाते हैं तो उसकी खुशबू से आपके घर का सारा माहौल खुशनुमा हो जाएगा।


तुलसी- हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बेहद पवित्र माना गया है। भोग लगाने से पहले तुलसी के पत्ते का प्रयोग किया जाता है यदि आपके घर में एक तुलसी का पौधा है। तो इससे घर के भीतर हमेशा सुख समृद्धि बनी रहती। नवरात्रि के समय घर में तुलसी का पौधा लगाने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

epaper