DA Image
17 अक्तूबर, 2020|11:59|IST

अगली स्टोरी

Navratri 2020: आज दोपहर 12:29 तक है घटस्थापना का शुभ मुहूर्त, इस बार नवमी और विजयदशमी एक ही दिन

navratri first day

शारदीय नवरात्र का प्रारम्भ शनिवार 17 अक्तूबर को हो रहा है। पुरुषोत्तम मास की वजह से पितृ-विसर्जन अमावस्य़ा के एक माह बाद नवरात्र प्रारम्भ हो रहे हैं। देवी भगवती कई विशिष्ट योग-संयोग के साथ अश्व पर सवार होकर अपने मंडप में विराजमान होंगी। 58 साल बाद अमृत योग वर्षा हो रही है।   

कई विशिष्ट योग 
1962 के बाद 58 साल के अंतराल पर शनि व गुरु दोनों नवरात्रि पर अपनी राशि में विराजे हैं, जो अच्छे कार्यों के लिए दृढ़ता लाने में बलवान होगा। नवरात्रि पर राजयोग, द्विपुष्कर योग, सिद्धियोग, सर्वार्थसिद्धि योग, सिद्धियोग और अमृत योग जैसे संयोगों का निर्माण हो रहा है। इस नवरात्रि दो शनिवार भी पड़ रहे हैं।


Navratri 2020: आज मां शैलपुत्री के पूजन के साथ होगी नवरात्रि की घटस्थापना, घटस्थापना के लिए कलश में रखें ये सामग्री, पढ़ें मुहूर्त

देवी भगवती की है वार्षिक महापूजा
शारदीय नवरात्र (अश्विन) को देवी ने अपनी वार्षिक महापूजा कहा है। इसी नवरात्र को मां भगवती अपने अनेकानेक रूपों- नवदुर्गे, दश महाविद्या और षोड्श माताओं के साथ आती हैं। देवी भागवत में देवी ने शारदीय नवरात्र को अपनी महापूजा कहा है। 

 

Happy Navratri 2020: इस नवरात्रि अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को इन मैसेजे से दें शुभकामनाएं, शेयर करें ये Wishes

घट स्थापना का मुहूर्त ( शनिवार) 
शुभ समय - सुबह  6:27 से 10:13 तक ( विद्यार्थियों के लिए अतिशुभ)
अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 11:44 से 12:29 तक (  सर्वजन)
स्थिर लग्न ( वृश्चिक)- प्रात: 8.45 से 11 बजे तक ( शुभ चौघड़िया, व्यापारियों के लिए श्रेष्ठ)

Navratri 2020: नवरात्रि पर इस बार दुर्लभ संयोग, 1962 में बना था ऐसा संयोग, कल सुबह 9:45 तक कर लें घट स्थापना

कोई तिथि क्षय नहीं, पूरे नवरात्र
इस बार शारदीय नवरात्र 17 से 25 अक्टूबर के बीच रहेंगे हालाँकि नवरात्र के नौ दिनों में कोई तिथि क्षय तो नहीं होगी लेकिन 25 तारिख को नवमी तिथि सुबह 7:41 पर ही समाप्त हो जाएगी। इसलिए नवमी और विजयदशमी (दशहरा) एक ही दिन होंगे।

नवरात्र: किसी तिथि का क्षय नहीं 
प्रतिपदा - 17 अक्टूबर 
द्वितीय - 18 अक्टूबर 
तृतीया  - 19 अक्टूबर 
चतुर्थी - 20 अक्टूबर 
पंचमी - 21 अक्टूबर 
षष्टी - 22 अक्टूबर 
सप्तमी - 23अक्टूबर 
अष्टमी - 24 अक्टूबर 
नवमी - 25 अक्टूबर
इन बातों का ध्यान रखें
- शारदीय नवरात्र पर जौ बोएं। इससे वातावरण शुद्ध होता है और सकारात्मक ऊर्जा मिलती है
कोरोना काल के कारण वातावरण शुद्ध करने के लिए पीली सरसो या हल्दी, सेंधा नमक और लोंग से अग्यारी करें।


 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Navratri 2020: Six and a half hours this time for Ghatasthapana shubh Muhurta students businessmen this time Navami and dussehra 2020 date on the same day