DA Image
31 मई, 2020|12:33|IST

अगली स्टोरी

Navratri 2020: महामारी के कारण सामान न जुटा हो तो ऐसे करें कलश स्थापना

chaitra navratri 2020

कोरोना वायरस के चलते नवरात्र पर आपको विशेष सावधानी ऱखनी होगी। देवी शास्त्र में एकांत पूजा को सर्वश्रेष्ठ माना गया है। वो भी रात्रिकालीन पूजा को। देवी भगवती की आराधना में पहलेदिन यानी शैलपुत्री दिवस ( प्रथम नवरात्र) को वातावरण की शुद्धि के लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं। जैसे तुलसी का पौधा लगा सकते हैं। यह शैलपुत्री की मुख्य उपासना होगी।

सूर्यकांत द्विवेदी        

मेरठ।

यूं कलश स्थापना परिवारीजन के साथ होती है। लेकिन जब परिस्थिति कोरोना वायरस जैसी हो तो आपको कुछ सावधानी भी रखनी होगी। जैसे, घर का मुखिया स्वयं संकल्प ले। यह संकल्प अपने परिवार की निमित वह स्वयं कर सकता है लेकिन संकल्प करते हुए वह अपनी मां-पिता, पत्नी और बच्चों का नाम ले। अन्यथा सपरिवारम संकल्प लेते हुए संकल्प ले। संकल्प से पूर्व सभी परिवारीजन अपने हाथ में पीले चावल लेकर बैठें और अर्पित कर दें। सब लोग अपने आगे एक कटोरी रख लें और उसमें चावल छोड़ दें। कलश स्थापना के समय पर्याप्त दूरी बनाकर रखें। किसी प्रकार यह संभव न हो तो घर का मुखिया ही संकल्प कर ले। व्रत का फल मिलेगा। इसी प्रकार अग्यारी या यज्ञ का भी ध्यान रखें।

यदि कलश स्थापना के लिए पर्याप्त सामग्री नहीं जुटा सके हो तो आप यह कर सकते हैं....

-नारियल न हो तो सुपारी

-सुपारी न हो तो कोई चांदी का सिक्का

-यदि यह भी न हो तो लोंग देवी जी के आगे रख दें

सूक्ष्म विधि

-एक पात्र में गंगाजल मिश्रित जल का पात्र रखें और सात बार कलावा बांध दें। उस पर एक तश्तरी में पीली सरसो, काले तिल, लोंग, सुपारी रख दें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Navratri 2020: If the goods are not collected due to the epidemic then do kalash stahapa in this way