DA Image
20 नवंबर, 2020|4:23|IST

अगली स्टोरी

Navratri 2020: सूर्य संक्रांति पड़ने से नवरात्र का पहला दिन बेहद खास

chaitra navratri 2019  chaitra navratri  chaitra navratri shubh muhurat  navratri sthapana muhurat 2

नवरात्री  पर इस बार तीन विशेष संयोग बन रहे हैं। मां भगवती का आगमन घोड़े पर होगा और विदाई हाथी पर होगी। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार सूर्य संक्रांति पड़ने से नवरात्र का पहला दिन बेहद खास होगा।
आईआईटी परिसर में सरस्वती मंदिर के पुजारी आचार्य राकेश कुमार शुक्ल ने बताया कि इस बार शारदीय नवरात्र में तीन विशेष संयोग बन रहे हैं। पहला संयोग करीब 58 साल बाद बन रहा है। शनि और बृहस्पति अपनी-अपनी राशि मकर और धनु में संचार करेंगे। दूसरे संयोग में सत्रह अक्तूबर को सूर्य की संक्रांति पड़ रही है। इस दिन सूर्य तुला राशि में प्रवेश करेंगे। 

Navratri 2020: नवरात्रि पर ये हैं कलश स्थापना के शुभ चौघड़िया और अभिजीत मुहूर्त, शुभफल प्राप्ति के लिए इस लग्न में करें घटस्थापना
सूर्य की संक्रांति पड़ने से इस दिन किए गए पूजन-दान का फल हजार गुना अधिक हो जाता है। तीसरा और प्रमुख संयोग पूरे नवरात्र में सात दिन विशेष संयोग पडेंगे। इन योगों में शुभ कार्य करने से कार्य सिद्धि होती है और विशेष लाभ मिलता है। बताया कि इस बार मां दुर्गा का आगमन घोड़े पर होगा। उन्होंने बताया कि इस दौरान नियम, संयम, खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। मां दुर्गा का पूजन कर सोलह श्रृंगार अर्पण करना चाहिए। 

Happy Navratri 2020: इस नवरात्रि अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को इन मैसेजे से दें शुभकामनाएं, शेयर करें ये Wishes

नवरात्र सत्रह से पच्चीस अक्तूबर तक होंगे। कलश स्थापना सुबह 6.25 से 10.10 बजे तक, पूर्वाह्न 11.42 से 12.27 बजे अभिजीत मुहूर्त में और अपराह्न बारह बजे से साढ़े चार बजे तक होगी। दूसरा स्थिर लग्न वृष रात में 07:06 से 09:02 बजे तक होगा परंतु चौघड़िया 07:30 तक ही शुभ है अतः 07:08 से 07:30 बजे के बीच मे कलश स्थापना किया जा सकता है।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Navratri 2020: First day of Navratri is very special due to the fall of Surya Transit in tula zodiac