Hindi Newsधर्म न्यूज़Mercury transit in Aries: The fate of these zodiac signs will change from May 9 Taurus has santanheen and dhanheen yog

Mercury transit in Aries: 9 मई से बदलेगा इन राशियों का भाग्य, इस राशि के लोगों को कराएगा अचानक धनलाभ

Mercury transit in Aries:वैशाख शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि 9 मई 2024 दिन गुरुवार को ग्रहों में राजकुमार के नाम से प्रसिद्ध बुध का गोचर देवगुरु बृहस्पति की राशि मीन से भूमि, भवन, वाहन, पराक्रम, अग्नि, ऊर्

Anuradha Pandey ज्योतिर्विद डॉ दिवाकर त्रिपाठी, नई दिल्लीTue, 7 May 2024 05:42 AM
हमें फॉलो करें

वैशाख शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि 9 मई 2024 दिन गुरुवार को ग्रहों में राजकुमार के नाम से प्रसिद्ध बुध का गोचर देवगुरु बृहस्पति की राशि मीन से भूमि, भवन, वाहन, पराक्रम, अग्नि, ऊर्जा, शौर्य के कारक ग्रह मंगल की राशि मेष में रात 1:30 बजे होगा। अग्नि कारक ग्रह मंगल की राशि में प्रवेश करते ही बुध राहु के प्रभाव से मुक्त हो जाएगा । ऐसी स्थिति में बुध अपना स्वतंत्र प्रभाव दे पाएगा । फिर भी अग्नि तत्व कारक राशि में गोचर करते हुए बुध के प्रभाव में थोड़ा उग्रता या तीव्रता देखने को मिलेगा। स्वतंत्र भारत के कुंडली में लग्न के आधार पर देखा जाए तो बुध धन एवं पंचम के कारक होकर द्वादश स्थान व्यय भाव में गोचर करेगा । ऐसी स्थिति में राजकीय कोष में खर्च की स्थिति बन सकती है। व्यापारिक यात्राओं या व्यापारिक संधियों में अवरोध की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। अति धनिष्ठा मित्र राष्ट्र से तनाव या मनमुटाव की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है। बौद्धिक स्तर, लेखन क्षेत्र, पत्रकारिता जगत, बैंकिंग एवं मैनेजमेंट के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए समय थोड़ा प्रतिकूल रह सकता है।

बुध के इस गोचर का सभी लग्नो तथा राशियों पर भी व्यापक प्रभाव पड़ेगा :- 

मेष :- तृतीयेश एवं षष्टेश होकर शेयर भाव में गोचर करेगा, परिणाम स्वरूप स्वास्थ्य को लेकर मानसिक तनाव उत्पन्न हो सकता है। बौद्धिक क्षमता का विस्तार होगा, पराक्रम बढ़ेगा,  मन अशांत रहेगा। अति घनिष्ठ व्यक्ति के कारण भी मानसिक तनाव हो सकता है। दाम्पत्य जीवन एवं प्रेम संबंधों में प्रगति की स्थिति बनेगी। साझेदारी व्यापार से लाभ होगा।
उपाय :- हरे पान का पत्ता एवं दूर्वा श्री गणेश ।

वृष :- धनेश एवं पंचमेश होकर के द्वादश भाव के होकर मेष राशि में गोचर करेंगे। ऐसे में धनहीन, संतान हीन योग का निर्माण हो जाता है। फलत: बौद्धिक क्षमता का सार्थक उपयोग हो पाने में अवरोध होगा। व्यर्थ का धन खर्च हो सकता है। संतान पर धन खर्च हो सकता है। पारिवारिक खर्च में वृद्धि हो सकती है। रोग, कर्ज तथा शत्रुओं में विजय वृद्धि हो सकती है। स्किन एलर्जी तनाव दे सकती है।
उपाय :- संतान गणपति स्तोत्र का पाठ एवं हवन लाभदायक होगा।

मिथुन:- लग्नेश सुखेश होकर लाभ भाव में गोचर करेंगे । ऐसे में आर्थिक गतिविधियों में व्यापक सुधार होगा, परिश्रम में वृद्धि और व्यापारिक गतिविधियों में वृद्धि, आम जनमानस में प्रसिद्धि बढ़ेगी। संतान पक्ष से शुभ समाचार प्राप्त होगा, मनोबल में उच्चता बनी रहेगी। स्वास्थ्य सुधरेगा, गृह एवं वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। अचानक धन लाभ की प्राप्ति हो सकती है।
उपाय :- बहन, बुआ को उपहार देकर आशीर्वाद लेते रहें।

कर्क :- व्यय एवं पराक्रम के कारक होकर दशम भाव में गोचर करेंगे। परिणाम स्वरूप सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि, पुरुषार्थ में वृद्धि, श्रम में वृद्धि एवं व्यक्ति अपने सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए अत्यधिक खर्च भी कर सकता है। सीने की तकलीफ में वृद्धि, जमीन संबंधित कार्य करने वाले लोगों को नुकसान हो सकता है। गृह और वाहन पर ज्यादा धन खर्च हो सकता है।
उपाय :- गणपति मंदिर में जाकर के दूर्वा पान का पत्ता तथा लड्डू चढ़ाये।

सिंह :- धन एवं लाभ भाव का कारक होकर भाग्य भाव में गोचर करेगा। परिणाम स्वरूप आंतरिक डर में वृद्धि, पराक्रम में कमी, धन संबंधित कार्यों में प्रगति। व्यापारिक विस्तार में वृद्धि, आर्थिक गतिविधियों में प्रगति, बुद्धि बल से धन कमाने में सफलता मिलेगी। भाई बहनों परिजनों तथा मित्रों का सहयोग में समय व्यतीत होगा। वाणी व्यवसाय से जुड़े लोगों को लाभ होगा।
उपाय :- बुधवार को हरे रंग का सुगंधित रुमाल जेब में रखें।

ऐप पर पढ़ें