DA Image
21 अप्रैल, 2021|2:08|IST

अगली स्टोरी

वृषभ राशि में मंगल और राहु से बना अंगारक योग, जानें क्या है अंगारक योग, किस राशि के लिए सही नहीं

planet

मंगल के वृषभ राशि में गोचर से अब राहु के साथ मिलकर अंगारक योग बन रहा है। यह योग 22 फऱवरी से शुरू हुआ है। इस दिन से ही मंगल ने वृषभ राशि में गोचर किया है। इस योग को ज्योतिष में शुभ योग नहीं माना जाता है। कहा जाता है कि इस योग में कई प्रकार की समस्याओं से विभिन्न राशि वालों का सामना होता है। खासकर मंगल और राहु की युति के कारण यह योग बनता है। यह योग अभी 52 दिनों तक रहेगा।

Mars Transit 2021: मंगल ग्रह ने आज 05:02 मिनट पर वृषभ राशि में किया गोचर, जानें किन राशियों को होगा लाभ-नुकसान

इस योग से उन राशि के लोगों को सावधान रहने की जरूरत है जिनकी कुंडली में मंगल ग्रह या फिर राहु ग्रह कमजोर है। इस ग्रह की विभिन्न समस्याओं से बचने के लिए हमें हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि हनुमान जी की कृपा से इस इस योग के खराब प्रभावों से बचाव होता है। हर मंगलवार और शनिवार हनुमान जी की चालीसा का पाठ और उन्हें चोला चढ़ाना भी बहुत अधिक फलदायी रहता है। 

आपको बता दें कि मंगल ने 22 फरवरी को सुबह 5 बजकर 02 मिनट पर मेष राशि निकलकर वृषभ राशि में गोचर किया है। यह अब वृषभ राशि में 14 अप्रैल तक रहेंगे। ज्योतिष शास्त्र में मंगल का राशि परिवर्तन काफी महत्वपूर्ण माना गया है। मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल जातक में साहस और आत्मविश्वास जगाता है। इसके साथ ही कुंडली में मंगल शुभ स्थान पर विराजमान हो तो राजयोग दिलाता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mars Rashi parivartan: Angarak yoga composed of Mars and Rahu in Taurus know what is Angarak yoga for which zodiac effected