Margashirsha - इस माह श्रीकृष्ण ने दिया था गीता का ज्ञान, श्रीराम-सीता का हुआ था विवाह DA Image
15 दिसंबर, 2019|11:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस माह श्रीकृष्ण ने दिया था गीता का ज्ञान, श्रीराम-सीता का हुआ था विवाह

मार्गशीर्ष माह हिन्दू पंचांग का आठवां महीना है। बोलचाल की भाषा में इस माह को अगहन भी कहा जाता है। मार्गशीर्ष माह को भगवान श्रीकृष्ण का स्वरूप माना जाता है। भगवान श्रीकृष्ण ने मार्गशीर्ष मास की महत्ता गोपियों को बताई थी। मार्गशीर्ष माह में शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र में अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। इसलिए इस दिन गीता जयंती भी मनाई जाती है।

ऋषि कश्यप ने इसी माह कश्मीर की स्थापना की थी। मार्गशीर्ष मास में शुक्ल पंचमी को विवाह पंचमी कहा जाता है। माना जाता है प्रभु श्रीराम का सीता से विवाह इसी दिन संपन्न हुआ था। यह दिन मांगलिक कार्यों के लिए बहुत शुभ माना जाता है। इस माह का संबंध मृगशिरा नक्षत्र से है। इसी वजह से इस मास को मार्गशीर्ष मास नाम से जाना जाता है। इस माह में पवित्र नदियों में स्नान और दान-पुण्य का विशेष महत्व है। इस माह गंगा में स्नान करने से रोग, दोष और पीड़ाओं से मुक्ति मिलती है। इस माह आने वाली उत्पन्ना एकादशी को भगवान विष्णु के लिए व्रत-उपवास किए जाते हैं। इस मास की अमावस्या पर पितरों के लिए तर्पण, श्राद्ध कर्म करने की परंपरा है। इस मास की पूर्णिमा को दत्त पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन भगवान दत्तात्रेय की पूजा करनी चाहिए। इस माह अपने पूर्वजों को याद करते हुए उनके प्रति आभार प्रकट करें।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Margashirsha