DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाशिवरात्रि 2018: ये महाशिवरात्रि व्रत कथा, पढ़ें ये मंत्र

आज पूरे देश में धूमधाम से महाशिवरात्रि का व्रत किया जा रहा है। कई जगह 14 फरवरी को भी यह व्रत किया जाएगा। आज पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 9 बजकर 11 मिनट तक  है। इसलिए इस समय तक पूजा कर लें।  पूजा के समय व्अरत कथा और इन मंत्रों का जाप करना चाहिए।   ॐ अघोराय नम: ॐ शर्वाय नम:, ॐ विरूपाक्षाय नम:, ॐ विश्वरूपिणे नम:,  ॐ त्र्यम्बकाय नम:,  ॐ भैरवाय नम:,  ॐ शूलपाणये नम: ॐ ईशानाय नम:

यहां पढ़ें व्रत कथा: अधिकतर जगह शिवरात्रि की यही कथा प्रचलित है: 

महाशिवरात्रि व्रत कथा 
एक जंगल में एक शिकारी था। अपने शिकार के इंतजार के लिए वो एक पेड़ पर चढ़ कर बैठ गया। बहुत देर इंतजार करने के बाद भी जब कोई शिकार उसके हाथ न लगा तो पेड़ के पत्ते नीचे तोड़कर फेंकने लगा। संयोगवश वह बेल का पेड़ था। उस दिन महाशिवरात्रि का व्रत था।

शिकार का इंतजार करते करते वह थक गया और रात भर पत्ते तोड़ता रहा।  सुबह उसे पता लगा कि जहां वह बेलपत्र फेंक रहा था वहां एक शिवलिंग था। इस तरह अनजाने में शिकारी से महाशिवरात्रि का व्रत हो गया और उसे मोक्ष की प्राप्ति हुई। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mahashivratri 2018 Mahashivratri vrat katha and mantra