ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologymagha purnima vrat puja vidhi shubh muhrat

Purnima Puja Vidhi : माघी पूर्णिमा आज, स्नान दान से मिलेगी सुख समृद्धि, ज्योतिषाचार्य से जानें संपूर्ण पूजा-विधि

Purnima : हर माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन जगत के पालनहार भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना और व्रत किया जाता है। माघ माह में पड़ने वाली पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है।

Purnima Puja Vidhi : माघी पूर्णिमा आज, स्नान दान से मिलेगी सुख समृद्धि, ज्योतिषाचार्य से जानें संपूर्ण पूजा-विधि
Yogesh Joshiहिन्दुस्तान संवाद,उस्का बाजारSat, 24 Feb 2024 07:22 AM
ऐप पर पढ़ें

Magha Purnima Vrat : हिन्दू धर्म में माघ पूर्णिमा का खास महत्व है। इसे माघी पूर्णिमा भी कहते हैं। स्नान दान का यह पर्व इस वर्ष शनिवार को है।ज्योतिषाचार्य पंडित अवधेश द्विवेदी के अनुसार हर माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन जगत के पालनहार भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना और व्रत किया जाता है। इनमें माघ मास की पूर्णिमा बहुत ही खास होती है। मान्यता है कि ऐसा करने से साधक को सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है। इसके अलावा इस दिन गंगा स्नान और दान करने का भी विधान है। बताया कि पंचांग के अनुसार माघ माह की पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 23 फरवरी को दोपहर 3 बजकर 33 मिनट से हो गई है और 24 फरवरी शाम 5 बजकर 59 मिनट पर तिथि का समापन होगा। सनातन धर्म में उदया तिथि अधिक महत्वपूर्ण है। ऐसे में माघ पूर्णिमा 24 फरवरी शनिवार के दिन मनाई जाएगी।

Aaj Ka Rashifal : मेष, कुंभ, मीन वाले मनाएंगे जश्न, कन्या, मकर वालों का मन रहेगा परेशान, शनिदेव को करें प्रणाम

माघ मास की पूर्णिमा की पूजा विधि

माघ पूर्णिमा के दिन ब्रह्म बेला में उठें और दिन की शुरुआत भगवान विष्णु और धन की मां लक्ष्मी के ध्यान से करें। स्नान करने के बाद साफ वस्त्र धारण करें। इसके बाद सूर्य देव को जल में काले तिल और कुमकुम मिलाकर अर्घ्य अर्पित करें। चौकी पर कपड़ा बिछाकर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करें। अब उन्हें फूल, तिल जौ, अक्षत, चंदन और हल्दी आदि चीजें अर्पित करें। घी का दीपक जलाकर भगवान की आरती करें और विष्णु चालीसा का पाठ करें। अंत में सुख, समृद्धि और धन वृद्धि की कामना करें। अब भगवान को विशेष चीजों का भोग लगाएं और भोग में तुलसी दल को शामिल करें। इसके पश्चात लोगों में प्रसाद का वितरण करें और खुद भी ग्रहण करें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें