ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मGanesh Jayanti 2023: माघ विनायक चतुर्थी आज, सुबह 11:29 बजे से शुरू होगा गणेश पूजा मुहूर्त, जानें वर्जित चंद्रदर्शन का समय

Ganesh Jayanti 2023: माघ विनायक चतुर्थी आज, सुबह 11:29 बजे से शुरू होगा गणेश पूजा मुहूर्त, जानें वर्जित चंद्रदर्शन का समय

Magh Vinayak Chaturthi 2023 January: माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को माघ विनायक चतुर्थी कहा जाता है। इस साल यह तिथि 25 जनवरी 2023, बुधवार को पड़ रही है। जानें पूजन मुहूर्त-

Ganesh Jayanti 2023: माघ विनायक चतुर्थी आज, सुबह 11:29 बजे से शुरू होगा गणेश पूजा मुहूर्त, जानें वर्जित चंद्रदर्शन का समय
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 25 Jan 2023 09:13 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश जयंती मनाई जाती है। मान्यता है कि इस दिन भगवान श्रीगणेश का जन्म हुआ था। इस दिन को माघ विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है। इस साल गणेश जयंती 24 जनवरी की दोपहर से शुरू हो रही है और 25 जनवरी की दोपहर को समाप्त हो रही है। इस वजह से गणेश जयंती या माघ विनायक चतुर्थी की तारीख को लेकर लोगों के बीच भम्र है। 

गणतंत्र दिवस के दिन ही इस बार बसंत पंचमी का संयोग, पूरे दिन रहेगा अबूझ मुहूर्त

गणेश जयंती 2023 कब है?

हिंदू पंचांग के अनुसार, माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि 24 जनवरी को दोपहर 03 बजकर 22 मिनट से प्रारंभ हो गई है और 25 जनवरी को दोपहर 12 बजकर 34 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में उदयातिथि में 25 जनवरी को गणेश जयंती मनाई जाएगी।

गणेश पूजन मुहूर्त-

25 जनवरी 2023 को सुबह 11 बजकर 29 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। पूजन की अवधि 1 घंटा 04 मिनट है।

24 जनवरी को वर्जित चन्द्रदर्शन का समय - 03:22 पी एम से 08:49 पी एम तक रहेगा। अवधि - 05 घंटे 27 मिनट्स

25 जनवरी को वर्जित चन्द्रदर्शन का समय - 09:53 ए एम से 09:54 पी एम
अवधि - 12 घंटे 01 मिनट

विनायक चतुर्थी पूजा विधि-

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें।
इसके बाद घर के मंदिर में सफाई कर दीप प्रज्वलित करें।
दीप प्रज्वलित करने के बाद भगवान गणेश का गंगा जल से जलाभिषेक करें।
इसके बाद भगवान गणेश को साफ वस्त्र पहनाएं।
भगवान गणेश को सिंदूर का तिलक लगाएं और दूर्वा अर्पित करें।
भगवान गणेश को दूर्वा अतिप्रिय होता है। जो भी व्यक्ति भगवान गणेश को दूर्वा अर्पित करता है, भगवान गणेश उसकी सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं। 
भगवान गणेश की आरती करें और भोग लगाएं। आप गणेश जी को मोदक, लड्डूओं का भोग लगा सकते हैं। 
इस पावन दिन भगवान गणेश का अधिक से अधिक ध्यान करें। 
अगर आप व्रत रख सकते हैं तो इस दिन व्रत रखें।