ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyMagh Purnima Vrat Kab hai Date Time Puja Vidhi Shubh Muhrat snan daan ka samay

Magh Purnima Vrat : माघ पूर्णिमा कब है? नोट कर लें डेट, पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व होता है। माघ माह में पड़ने वाली पूर्णिमा को माघ पूर्णिमा कहा जाता है। यह हिंदू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

Magh Purnima Vrat : माघ पूर्णिमा कब है? नोट कर लें डेट, पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 05:41 AM
ऐप पर पढ़ें

Magh Purnima Kab Hai :  हिंदू धर्म में पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व होता है। पूर्णिमा तिथि पर भगवान विष्णु की विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है। पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा- अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।  माघ पूर्णिमा 24 फरवरी को है। माघ माह में पड़ने वाली पूर्णिमा को माघ पूर्णिमा कहा जाता है और यह हिंदू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है। ऐसी मान्‍यता है कि इस दिन व्रत रखने से जीवन में जिस चीज की कमी होती है वह पूरी हो जाती है।पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी बहुत अधिक महत्व होता है। इस दिन दान करने से भी कई गुना फल की प्राप्ति होती है। 

मुहूर्त-  

  • पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ - फरवरी 23, 2024 को 03:33 पी एम बजे

  • पूर्णिमा तिथि समाप्त - फरवरी 24, 2024 को 05:59 पी एम बजे

20 फरवरी से शुरू होंगे इन राशियों के अच्छे दिन, बुध की चाल बदलते ही होगा भाग्योदय

पूजा -विधि-

  • इस पावन दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने का बहुत अधिक महत्व होता है। आप नहाने के पानी में गंगा जल डालकर स्नान भी कर सकते हैं। नहाते समय सभी पावन नदियों का ध्यान कर लें।
  • नहाने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें। 
  • अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
  • सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें। 
  • पूर्णिमा के पावन दिन भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना का विशेष महत्व होता है। 
  • इस दिन विष्णु भगवान के साथ माता लक्ष्मी की पूजा- अर्चना भी करें। 
  • भगवान विष्णु को भोग लगाएं। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को भी शामिल करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार तुलसी के बिना भगवान विष्णु भोग स्वीकार नहीं करते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। 

आने वाले 26 दिनों तक सूर्य की तरह चमकेगा इन राशियों का भाग्य, धन-दौलत में होगी वृद्धि

  • भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की आरती करें।
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का अधिक से अधिक ध्यान करें। 
  • पूर्णिमा पर चंद्रमा की पूजा का भी विशेष महत्व होता है। 
  • चंद्रोदय होने के बाद चंद्रमा की पूजा अवश्य करें। 
  • चंद्रमा को अर्घ्य देने से दोषों से मुक्ति मिलती है। 
  • इस दिन जरूरतमंद लोगों की मदद करें। 
  • अगर आपके घर के आसपास गाय है तो गाय को भोजन जरूर कराएं। गाय को भोजन कराने से कई तरह के दोषों से मुक्ति मिल जाती है।

स्नान- दान का समय- 24 फरवरी को पूरे दिन स्नान- दान किया जा सकता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें