ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologymagh purnima kab hai 2024 mein date time puja vidhi shubh muhrat snan daan ka samay mantra aarti

Magh Purnima Kab Hai : आज है माघ पूर्णिमा, नोट कर व्रत की पूजा-विधि, सामग्री लिस्ट, आरती, मंत्र

Magh Purnima Date : पूर्णिमा तिथि पर भगवान विष्णु की विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है। पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा- अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

Magh Purnima Kab Hai : आज है माघ पूर्णिमा, नोट कर व्रत की पूजा-विधि, सामग्री लिस्ट, आरती, मंत्र
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 24 Feb 2024 06:08 AM
ऐप पर पढ़ें

Magh Purnima 2024 kab hai : हिंदू धर्म में पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व होता है। हर साल फरवरी माह में ही माघ माह की पूर्णिमा पड़ती है। पूर्णिमा तिथि पर भगवान विष्णु की विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है। पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा- अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी बहुत अधिक महत्व होता है। इस दिन दान करने से भी कई गुना फल की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं माघ माह पूर्णिमा की सही डेट, पूजा- विधि...

माघ माह पूर्णिमा की डेट- 24 फरवरी, शनिवार 2024।

मुहूर्त-

  • पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ - फरवरी 23, 2024 को 03:33 पी एम बजे

  • पूर्णिमा तिथि समाप्त - फरवरी 24, 2024 को 05:59 पी एम बजे

माघ पूर्णिमा व्रत कब करें-  पूर्णिमा तिथि 23 फरवरी को दोपहर 3 बजकर 33 मिनट से लग रही है और 24 फरवरी को शाम 5 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। पूर्णिमा तिथि 24 फरवरी को सिर्फ शाम तक रहेगी जिस वजह से पूर्णिमा का व्रत 23 फरवरी को ही किया जाना उचित रहेगा। पूर्णिमा व्रत में चांद की पूजा का महत्व होता है। 24 फरवरी को चंद्रोदय के समय तक पूर्णिमा तिथि नहीं है, जिस वजह से 23 फरवरी को व्रत करना उचित होगा।

स्नान-दान का समय- 24 फरवरी को शाम 5 बजकर 59 मिनट तक माघ पूर्णिमा का स्नान किया जा सकता है।

पूजा -विधि-

  • इस पावन दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने का बहुत अधिक महत्व होता है। आप नहाने के पानी में गंगा जल डालकर स्नान भी कर सकते हैं। नहाते समय सभी पावन नदियों का ध्यान कर लें।
  • नहाने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें। 
  • अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
  • सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें। 
  • पूर्णिमा के पावन दिन भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना का विशेष महत्व होता है। 
  • इस दिन विष्णु भगवान के साथ माता लक्ष्मी की पूजा- अर्चना भी करें। 
  • भगवान विष्णु को भोग लगाएं। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को भी शामिल करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार तुलसी के बिना भगवान विष्णु भोग स्वीकार नहीं करते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। 
  • भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की आरती करें।
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का अधिक से अधिक ध्यान करें। 
  • पूर्णिमा पर चंद्रमा की पूजा का भी विशेष महत्व होता है। 
  • चंद्रोदय होने के बाद चंद्रमा की पूजा अवश्य करें। 
  • चंद्रमा को अर्घ्य देने से दोषों से मुक्ति मिलती है। 
  • इस दिन जरूरतमंद लोगों की मदद करें। 
  • अगर आपके घर के आसपास गाय है तो गाय को भोजन जरूर कराएं। गाय को भोजन कराने से कई तरह के दोषों से मुक्ति मिल जाती है।

शनिदेव को प्रिय हैं ये 2 राशियां, देखें क्या आप पर भी है न्याय के देवता की कृपा दृष्टि

मंत्र- ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्मी नम:।।

माघ पूर्णिमा सामग्री लिस्ट- 

  • रोली
  • अक्षत 
  • चावल 
  • फल
  • फूल
  • पंचामृत 
  • सुपारी
  • तुलसी दल 
  • तिल 
  • पान का पत्ता

भगवान विष्णु जी की आरती...

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥
 
जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का।
सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय...॥
 
मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी।
तुम बिन और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय...॥
 
तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी॥
पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय...॥
 
तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय...॥
 
तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय...॥
 
दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।
अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय...॥
 
विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय...॥
 
तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा।
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा॥ ॐ जय...॥
 
जगदीश्वरजी की आरती जो कोई नर गावे।
कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय...॥ 

मां लक्ष्मी आरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन * सेवत हरि विष्णु विधाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता

सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता

जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता

माघ पूर्णिमा के दिन इन 5 राशियों पर रहेंगी मां लक्ष्मी मेहरबान, घर में होगा धन का आगमन

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता

कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता

सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता

खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता

रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता

2024 की शुरुआत से ठीक एक दिन पहले गुरु मचाएंगे हलचल, नया साल इन राशि वालों के लिए रहेगा वरदान समान

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता

उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत,

मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें