ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologymagh purnima 2024 maa laxmi upay remedies how to get blessings of laxmi ji

माघ पूर्णिमा पर करें ये खास उपाय, मां लक्ष्मी करेंगी अपार कृपा, आर्थिक पक्ष होगा मजबूत, करेंगे तरक्की

Magh Purnima 2024 : हिंदू धर्म में माघ पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन को माघी पूर्णिमा भी कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, माघ पूर्णिमा के दिन स्नान-दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

माघ पूर्णिमा पर करें ये खास उपाय, मां लक्ष्मी करेंगी अपार कृपा, आर्थिक पक्ष होगा मजबूत, करेंगे तरक्की
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 24 Feb 2024 05:58 AM
ऐप पर पढ़ें

Magh Purnima Upay : हिंदू धर्म में माघ पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन को माघी पूर्णिमा भी कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, माघ पूर्णिमा के दिन स्नान-दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। पवित्र नदी में स्नान करने से जातक के सभी पाप मिट जाते हैं। मान्यता है कि इस भगवान विष्णु गंगाजल में निवास करते हैं। माघ पूर्णिमा का दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए अति उत्तम माना गया है। इस दिन कुछ उपायों को करने से धन का आगमन और कर्ज से छुटकारा मिलने की मान्यता है। इस पावन दिन माता लक्ष्मी को खीर का भोग अवश्य लगाना चाहिए। मां लक्ष्मी को खीर अतिप्रिय होती है। इस पावन दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए अष्टलक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इस पाठ को करने से घर में सुख- समृद्दि आती है। आप रोजाना भी अष्टलक्ष्मी स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं।

श्री अष्टलक्ष्मी स्त्रोतम:

  • आदि लक्ष्मी

सुमनस वन्दित सुन्दरि माधवि चंद्र सहोदरि हेममये ।

मुनिगण वन्दित मोक्षप्रदायिनी मंजुल भाषिणि वेदनुते ।

पङ्कजवासिनि देवसुपूजित सद-गुण वर्षिणि शान्तिनुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि आदिलक्ष्मि परिपालय माम् ।

माघ पूर्णिमा के दिन इन 5 राशियों पर रहेंगी मां लक्ष्मी मेहरबान, घर में होगा धन का आगमन

  • धान्य लक्ष्मी:

अयिकलि कल्मष नाशिनि कामिनि वैदिक रूपिणि वेदमये ।
क्षीर समुद्भव मङ्गल रुपिणि मन्त्रनिवासिनि मन्त्रनुते ।

मङ्गलदायिनि अम्बुजवासिनि देवगणाश्रित पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदनकामिनि धान्यलक्ष्मि परिपालय माम् ।

धैर्य लक्ष्मी:

जयवरवर्षिणि वैष्णवि भार्गवि मन्त्र स्वरुपिणि मन्त्रमये ।

सुरगण पूजित शीघ्र फलप्रद ज्ञान विकासिनि शास्त्रनुते ।

भवभयहारिणि पापविमोचनि साधु जनाश्रित पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि धैर्यलक्ष्मि सदापालय माम् ।

  • गज लक्ष्मी:

जय जय दुर्गति नाशिनि कामिनि वैदिक रूपिणि वेदमये ।

रधगज तुरगपदाति समावृत परिजन मंडित लोकनुते ।

हरिहर ब्रम्ह सुपूजित सेवित ताप निवारिणि पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि गजलक्ष्मि रूपेण पालय माम् ।

गुरु कृपा से बदलेगा इन 5 राशियों का भाग्य, 2024 के अंत तक सूर्य की तरह चमकेगी किस्मत

  • सन्तान लक्ष्मी:

अयि खगवाहिनी मोहिनि चक्रिणि रागविवर्धिनि ज्ञानमये ।

गुणगणवारिधि लोकहितैषिणि सप्तस्वर भूषित गाननुते ।

सकल सुरासुर देव मुनीश्वर मानव वन्दित पादयुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि सन्तानलक्ष्मि परिपालय माम् ।

  • विजय लक्ष्मी:

जय कमलासनि सद-गति दायिनि ज्ञानविकासिनि गानमये ।

अनुदिन मर्चित कुङ्कुम धूसर भूषित वसित वाद्यनुते ।

कनकधरास्तुति वैभव वन्दित शङ्करदेशिक मान्यपदे ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि विजयक्ष्मि परिपालय माम् ।

6 मार्च तक इन 4 राशियों पर रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा, सूर्य, बुध, शनि भी देंगे शुभ फल

  • विद्या लक्ष्मी:

प्रणत सुरेश्वरि भारति भार्गवि शोकविनाशिनि रत्नमये ।

मणिमय भूषित कर्णविभूषण शान्ति समावृत हास्यमुखे ।

नवनिद्धिदायिनी कलिमलहारिणि कामित फलप्रद हस्तयुते ।

जय जय हे मधुसूदन कामिनि विद्यालक्ष्मि सदा पालय माम् ।

  • धन लक्ष्मी:

धिमिधिमि धिन्धिमि धिन्धिमि-दिन्धिमी दुन्धुभि नाद सुपूर्णमये ।

घुमघुम घुङ्घुम घुङ्घुम घुङ्घुम शङ्ख निनाद सुवाद्यनुते ।
वेद पुराणेतिहास सुपूजित वैदिक मार्ग प्रदर्शयुते ।

जय जय हे कामिनि धनलक्ष्मी रूपेण पालय माम् ।

अष्टलक्ष्मी नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि ।

विष्णुवक्षःस्थलारूढे भक्तमोक्षप्रदायिनी ।।

शङ्ख चक्र गदाहस्ते विश्वरूपिणिते जयः ।

जगन्मात्रे च मोहिन्यै मङ्गलम शुभ मङ्गलम ।

। इति श्री अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम सम्पूर्णम ।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें