ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologymaa chandraghanta aarti navratri 3rd day mantra bhog

Maa Chandraghanta Aarti :नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की करें आरती, देवी की कृपा से जीवन हो सुखमय

Maa Chandraghanta Ki Aarti Navratri 3rd Day 11 April 2024 : 11 अप्रैल को नवरात्रि का तीसरा दिन है। नवरात्रि के तीसरे दिन मां के तृतीय स्वरूप मां चंद्रघंटा की विधिवत पूजा-अर्चना की जाती है।

Maa Chandraghanta Aarti :नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की करें आरती, देवी की कृपा से जीवन हो सुखमय
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीThu, 11 Apr 2024 02:17 PM
ऐप पर पढ़ें

Maa Chandraghanta Aarti Navratri 3rd Day : 11 अप्रैल को नवरात्रि का तीसरा दिन है। नवरात्रि के तीसरे दिन मां के तृतीय स्वरूप मां चंद्रघंटा की विधिवत पूजा-अर्चना की जाती है। शास्त्रों के अनुसार, मां दुर्गा का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। माता रानी के मस्तक में घण्टे के आकार का अर्धचंद्र विराजमान हैं, इस वजह से मां का नाम चंद्रघंटा पड़ा। मां चंद्रघंटा की सवारी शेर है। दस हाथों में कमल और कमडंल के अलावा अस्त-शस्त्र हैं। माथे पर अर्ध चंद्र ही इनकी पहचान है। इनके कंठ में श्वेत पुष्प की माला और शीर्ष पर रत्नजड़ित मुकुट विराजमान है। माता चंद्रघंटा युद्ध की मुद्रा में विराजमान रहती हैं। न्यता है कि मां चंद्रघंटा की पूजा करने से मन को शांति प्राप्त होती है। मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप की अराधना करने से परम शक्ति का अनुभव होता है। मान्यता है कि मां चंद्रघंटा की पूजा में दूध का प्रयोग करना परम कल्याणकारी होता है। मां की कृपा से जीवन सुखमय हो जाता है। नवरात्रि के तीसरे दिन पर देवी चंद्रघंटा का आशीर्वाद पाने के लिए विधिवत पूजा करने के साथ चंद्रघंटा माता की आरती जरूर करें।

13 अप्रैल से शुरू होंगे इन राशियों के अच्छे दिन, सूर्य की तरह चमकेंगी ये 3 राशियां

Maa Chandraghanta Aarti (मां चंद्रघंटा की आरती)-

जय मां चंद्रघंटा सुख धाम।

पूर्ण कीजो मेरे सभी काम।

चंद्र समान तुम शीतल दाती।चंद्र तेज किरणों में समाती।

क्रोध को शांत करने वाली।

मीठे बोल सिखाने वाली।

मन की मालक मन भाती हो।

चंद्र घंटा तुम वरदाती हो।

सुंदर भाव को लाने वाली।

हर संकट मे बचाने वाली।

हर बुधवार जो तुझे ध्याये।

श्रद्धा सहित जो विनय सुनाएं।

मूर्ति चंद्र आकार बनाएं।

सन्मुख घी की ज्योति जलाएं।

शीश झुका कहे मन की बाता।

पूर्ण आस करो जगदाता।

कांचीपुर स्थान तुम्हारा।

करनाटिका में मान तुम्हारा।

नाम तेरा रटूं महारानी।

भक्त की रक्षा करो भवानी।

अंकराशि 11 अप्रैल : इन तारीखों में जन्मे लोगों का सूर्य की तरह चमकेगा भाग्य, धन-संपदा में होगी वृद्धि, महालाभ के योग

मां चंद्रघंटा मंत्र-

पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता।।

मां चंद्रघंटा का भोग- मां चंद्रघंटा को को केसर की खीर और दूध से बनी मिठाई का भोग अर्पित करना चाहिए। इसके अलावा पंचामृत, चीनी व मिश्री माता रानी को अर्पित की जाती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें