DA Image
1 जुलाई, 2020|9:10|IST

अगली स्टोरी

Lunar Eclipse 2020 on June 5: इस चंद्र ग्रहण के दौरान करें इन मंत्रों का जाप, होता है शुभ

chandra grahan june 2020

आज लगने वाला ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। इस चंद्र ग्रहण में पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ती है। चन्द्रग्रहण भारतीय समयानुसार रात 11:15 बजे से 12:54 बजे तक प्रभावी रहेगा। इस ग्रहण को स्ट्रोबेरी चंद्र ग्रहण भी कहा जा रहा है। चंद्र ग्रहण का मानव पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। नासा की मानें तो अभी तक ऐसे कोई प्रमाण नहीं मिले हैं जिनसे पता चले कि चंद्र ग्रहण का मनुष्यों पर कोई प्रभाव पड़ता हो।  

इस ग्रहण का सूतक काल नहीं माना जाएगा। ज्योतिषियों के मुताबिक इस ग्रहण का भारत में प्रभाव नहीं है इसलिए इस ग्रहण के दौरान सूतक काल नहीं माना जाएगा। लेकिन ग्रहण के दौरान कई तरह के नियमों के पालन की सलाह दी जाती है। हालांकि यह उपछाया चंद्र ग्रहण है। इसलिए इस ग्रहण का कोई आध्यात्मिक दृष्टि से प्रभाव नहीं पड़ेगा। फिर भी चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को खास सावधानी रखनी चाहिए। ग्रहण के दौरान  महिलाओं को चाकू या किसी धारदार चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस दौरान किसी को भी खाना नहीं खाना चाहिए। कहते हैं इस समय खाना खाने से आपका कफ दोष बढ़ सकते हैं। ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को विष्णु के मंत्र 'ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय', 'भगवान शिव के मंत्र ऊँ नम: शिवाय', भगवान गणेश के मंत्र 'श्री गणेशाय नम:' का जाप  मंत्र का जाप करना चाहिए और सभी को ग्रहण समाप्त होने के बाद चावल या किसी सफेद चीज का दान करना चाहिए। 

क्या है उपछाया चन्द्रग्रहण:  उपछाया चन्द्रग्रहण तब होता है जब सूरज और चंद्रमा के बीच पृथ्वी घूमते हुए आती है, लेकिन यह तीनों एक सीधी लाइन में नहीं होते। ऐसी स्थिति में चांद की छोटी सी सतह पर अंब्र नहीं पड़ती है। पृथ्वी के बीच से पड़ने वाली छाया को अंब्र कहा जाता है। चांद के शेष हिस्से में पृथ्वी के बाहरी हिस्से की छाया पड़ती है। जिसे उपछाया कहा जाता है। 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lunar Eclipse 2020 on June 5: Chanting these mantras this chandra grahan auspicious