lord ram famous temples in india know mythological significance and other facts - ये हैं भारत के प्रसिद्ध 7 राम मंदिर, जानें पौराणिक कहानियों में क्या है इनका महत्व DA Image
17 नबम्बर, 2019|6:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये हैं भारत के प्रसिद्ध 7 राम मंदिर, जानें पौराणिक कहानियों में क्या है इनका महत्व

raghunath temple

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने इस फैसले में विवादित जमीन पर रामलला का हक माना है, यानी विवादित जमीन राम मंदिर के लिए दे दी गई है। अयोध्या में राम मंदिर को लेकर एक अलग तरह की धार्मिक भावनाएं देखने को मिलती है, ऐसे में कोर्ट के इस फैसले से रामभक्तों में खुशी की लहर है। भारत में ऐसे कई राम मंदिर है, जो बेहद प्रसिद्ध हैं। आइए, एक नजर उन मंदिरों पर- 


रघुनाथ मंदिर

raghunath temple

भारतीय राज्य जम्मू और कश्मीर के जम्मू शहर में स्थित यह राम मंदिर आकर्षक वास्तुकला का नमूना है। इस मंदिर को 1835 में महाराजा गुलाब सिंह ने बनवाना शुरू किया था और इसका पूर्ण निर्माण महाराजा रणजीतसिंह के काल में हुआ। इस मंदिर में 7 ऐतिहासिक धार्मिक स्‍थल मौजूद है। मंदिर के भीतर की दीवारों पर तीन तरफ से सोने की परत चढ़ी हुई है। इसके अलावा मंदिर के चारों ओर कई मंदिर स्थित है जिनका सम्बन्ध रामायण काल के देवी-देवताओं से हैं।

 

त्रिप्रायर श्रीरामा मंदिर 

kerala temple

यह मंदिर भारतीय राज्य केरल के दक्षिण-पश्चिमी शहर त्रिप्प्रयार (त्रिप्रायर) में स्थित है। त्रिप्रायर नदी के किनारे स्थित त्रिप्रायर श्रीराम मंदिर कोडुन्गल्लुर का प्रमुख धार्मिक स्थान है। यह त्रिप्रायर में स्थित है, जो कोडुन्गल्लुर शहर से लगभग 15 किलोमीटर और त्रिशूर से 25 किलोमीटर दूर स्थित है। भगवान विष्णु के 7वें अवतार भगवान श्रीराम की इस मंदिर में पूजा की जाती है। 


श्रीसीतारामचंद्र स्वामी मंदिर,आंध्रप्रदेश

rama chandra swami temple

भगवान राम का यह मंदिर आंध्रप्रदेश के खम्मण जिले के भद्राचलम शहर में स्थित है। भद्राचलम की एक विशेषता यह भी है कि यह वनवासी बहुल क्षेत्र है और राम वनवासियों के पूज्य हैं। वनवासी बहुल क्षेत्र होने के कारण यहां ईसाई मिशनरी धर्मान्तरण करने के लिए कई वर्षों से सक्रिय है। कथाओं के अनुसार भगवान राम जब लंका से सीता को बचाने के लिए गए थे, तब गोदावरी नदी को पार कर इस स्थान पर रुके थे। 


श्रीतिरुनारायण स्वामी मंदिर, कर्नाटक

tiruswami narayan

मेलकोट या मेलुकोट कर्नाटक के मांड्या जिला तहसील पांडवपुरा का एक छोटा-सा कस्बा है, जो कावेरी नदी के तट पर बसा है। इस स्थान को तिरुनारायणपुरम भी कहते हैं। यह एक छोटी-सी पहाड़ी है जिसे यदुगिरि कहते हैं। यदुगिरि पहाड़ी पर दो मंदिर स्थित है। एक मंदिर भगवान नृसिंह का जो पहाड़ी के रास्ते में पहले पड़ता है और दूसरा चेलुवा नारायण का मंदिर जो पहाड़ी के सबसे ऊपर स्थित है। 


चित्रकूट का राम मंदिर, प्रयागराज 

chitrakoot

श्रीराम अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी सहित प्रयाग पहुंचे थे। यहां गंगा-जमुना का संगम स्थल है। हिन्दुओं का यह सबसे बड़ा तीर्थस्थान है। प्रभु श्रीराम ने संगम के समीप यमुना नदी को पार किया और फिर पहुंच गए चित्रकूट। यहां स्थित स्मारकों में शामिल हैं- वाल्मीकि आश्रम, मांडव्य आश्रम, भरतकूप हैं।

 

हरिहरनाथ मंदिर, सोनपुर

 

sonpur temple

भगवान विष्णु को समर्पित हरिहरनाथ मंदिर का निर्माण भगवान राम ने त्रेतायुग में करवाया था। माना जाता है कि श्रीराम ने यह मंदिर तब बनवाया था, जब वे सीता स्वयंवर में जा रहे थे। सारण और वैशाली जिले की सीमा पर गंगा और गंडक नदी के संगम पर स्थित इस मंदिर का निर्माण राजा मानसिंह ने करवाया। वर्तमान में जो मंदिर है, उसका जीर्णोद्धार तत्कालीन राजा राम नारायण ने करवाया था।


थिरुवंगड श्रीरामस्वामी मंदिर, केरल 

shriram swami temple

केरल के कण्णूर जिले में स्थित थालास्‍सेरी में अंग्रेजों द्वारा बनाया गया एक प्रसिद्ध किला है। यहां से कुछ दूर ही प्रसिद्ध राम मंदिर है। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 2,000 वर्ष पूर्व हुआ था। इससे पहले इस स्थान पर भगवान परशुराम ने एक विष्णु मंदिर का निर्माण करवाया था। इस स्थान का संबंध अगस्त्य मुनि से भी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lord ram famous temples in india know mythological significance and other facts