DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुम्भ मेला:15 को मनेगी मकर संक्रांति, कुम्भ में ब्रह्ममुहूर्त से शाही स्नान होगा शुरू

Makar sankranti 2019

दिव्य और भव्य कुम्भ का पहला मुख्य स्नान पर्व मकर संक्रांति मंगलवार को ब्रह्ममुहूर्त से शुरू हो जाएगा। स्नान के समयकाल में अमृत और साध्य योग रहेगा। इस काल में किए गए स्नान, दान से अधिक पुण्य मिलेगा। पं. दिवाकर त्रिपाठी ‘पूर्वांचली' के अनुसार सूर्य की मकर राशि की संक्रान्ति 14 जनवरी, सोमवार को रात में 02:19 बजे से शुरू होगी। यानी देवगुरु बृहस्पति की राशि धनु को छोड़कर अपने पुत्र शनि की राशि मकर में प्रवेश करेंगे। 

शास्त्रों के अनुसार सूर्यास्त के बाद किसी भी समय मकर संक्रान्ति होने पर संक्रान्ति का पुण्य काल दूसरे दिन सूर्योदय से मध्याह्न तक रहता है। इसलिए मकर संक्रांति पर्व उदयातिथि में 15 जनवरी, मंगलवार को होगा और स्नान, दान का पुण्यकाल मध्याह्न तक रहेगा। 

makar sankranti 2019:इस बार 15 जनवरी को मकर संक्रांति, जानें पूजा मुहूर्त, विधि और महत्व

उदयातिथि की मान्यता: धर्मशास्त्रों में जिस तिथि में सूर्य उदय होता है उस तिथि को उदयातिथि कहा जाता है। सभी कार्यों का मुहूर्त तिथियों के अनुसार होता है। उदया तिथि का आशय सूर्योदय के समय मौजूद तिथि से है। 

Makar Sankranti 2019: राशि के अनुसार दान करें ये चीजें, मिलेगा शुभ फल

स्नान-दान का महत्व: इस दिन चावल, उड़द, गुड़, नमक, गेहूं, सोना, तिल, स्वर्ण, चंदन, कंबल, लकड़ी, वस्त्र आदि का दान किया जाना शुभ है। माना जाता है कि इस दिन ही महर्षि प्रवहरण को प्रयाग में स्नान करने से पांच अमृत तत्वों की प्राप्ति हुई थी। 

तिल सेवन से बढ़ेगी निरोगता : राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. खुशनुमा परवीन सिद्दीकी ने बताया कि इस समय तिल के सेवन से ऊर्जा बढ़ती है व चर्म रोग नहीं फैलता।

अखाड़ा    निकलने का समय    संगम नोज पर स्नान का वक्त 

महानिर्वाणी, अटल 5.15-6.15    40 मिनट 

निरंजनी आनंद 6.06-7.05 40 मिनट

निर्मोही 9.40-10.40 40 मिनट

दिंगबर 10.20-11.20 30 मिनट

निर्वाणी 11.20- 12.20 50 मिनट

नया उदासीन 12.15-1.15 30 मिनट

बड़ा उदासीन 1.20-2.20 55 मिनट

निर्मल 2.40-3.40 40 मिनट

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति पर इन संदेशों से करें अपनों को विश

एनडीआरएफ के डीजी रवि जोसफ लुक्कू रविवार को प्रयागराज पहुंचे। उन्होंने एनडीआरएफ की टीम से मिले और उनकी तैयारियों की समीक्षा की। पहले शाही स्नान के दौरान जिन जिन घाटों पर एनडीआरएफ की टीमें लगाई गई उनके बारे में जानकारी ली। जल मार्ग से लेकर आपातप्रबंधन में एनडीआरएफ की कुल 12 टीमें लगी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kumbh mela allahabad 2019: Makar sankranti 2019 on 15 january royal bath of kumbh on Makar Sankranti Brahm muhurat