DA Image
18 जनवरी, 2020|8:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानें कब से शुरू हो रहे हैं खरमास, मांगलिक कार्यों के लिए आखिर क्यों शुभ नहीं माना जाता ये माह

kharmas or malmas

Kharmas 2019: हिंदू धर्म में खरमास या मलमास में कोई भी मांगलिक कार्य नहीं करने का विधान बताया गया है। खरमास पूरे एक माह के लिए आते हैं। दरअसल, सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने पर खरमास माह शुरू होता है। जो कि सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के बाद समाप्त होता है। 

इस साल खरमास का माह सोमवार, 16 दिसंबर से शुरू हो रहा है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस माह मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं। खरमास के महीने में विवाह, गृह प्रवेश, मुंडन, नामकरण संस्कार, यज्ञोपवीत संस्कार, वधु प्रवेश, गृह निर्माण, नए व्यापार का शुभारंभ आदि जैसे मांगलिक कर्म नहीं किए जाते हैं। इस दौरान पवित्र नदियों में स्नान करने और सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा बताई गई है। बता दें, जनवरी 2020 में 15 तारीख को सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के बाद मकर संक्रांति के ही दिन खरमास का माह समाप्त होगा। 

खरमास में करें ये काम
खरमास में सूर्य का गुरु राशि में गोचर होने की वजह से ये समय पूजा-पाठ और मंत्र जाप के लिए बेहद उपयोगी माना जाता है। इस समय अनुष्ठान से जुड़े कर्म को साथ पितरों से संबंधित श्राद्ध कार्य करना भी अनुकूल माना गया है। खरमास में जलदान का भी बहुत महत्व माना जाता है। इस समय ब्रह्म मूहूर्त के समय किए गए स्नान को शरीर के लिए बहुत उपयोगी माना गया है।

खरमास की पौराणिक मान्यता-
लोक कथाओं के अनुसार खरमास को अशुभ माह मानने के पीछे एक पौराणिक कथा बताई जाती है। खर गधे को कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मार्कण्डेय पुराण के अनुसार एक बार सूर्य अपने सात घोड़ों के राथ को लेकर ब्राह्मांड की परिक्रमा करने के लिए निकल पड़ते हैं। इस परिक्रमा के दौरान सूर्य देव को रास्ते में कहीं भी रूकने की मनाही होती है, लेकिन सूर्य देव के सातों घोड़े कई साल निरंतर दौड़ने की वजह से जब प्यास से व्याकुल हो जाते हैं तो सूर्य देव उन्हें पानी पिलाने के लिए निकट बने एक तलाब के पास रूक जाते हैं। तभी उन्हें स्मरण होता है कि उन्हें तो रास्ते में कहीं रूकना ही नहीं है तो वो कुंड के पास कुछ गधों को अपने रथ से जोड़कर आगे बढ़ जाते हैं। जिससे उनकी गति धीमी हो जाती है। यही वजह है कि खरमास को अशुभ माह के रूप में देखा जाता है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:kharmas 2019: According to astrology Know from which date kharmas or Malmas starts and why people believe these days are not good for doing auspicious things