DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Karwa Chauth Moonrise Timing 2020: Delhi-NCR में कब दिखेगा करवा चौथ का चांद, जानिए आपके इलाके में कितने बजे होंगे चंद्रदर्शन

पंचांग-पुराणKarwa Chauth Moonrise Timing 2020: Delhi-NCR में कब दिखेगा करवा चौथ का चांद, जानिए आपके इलाके में कितने बजे होंगे चंद्रदर्शन

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Wed, 04 Nov 2020 07:06 PM
Karwa Chauth Moonrise Timing 2020: Delhi-NCR में कब दिखेगा करवा चौथ का चांद, जानिए आपके इलाके में कितने बजे होंगे चंद्रदर्शन

Karva Chauth 2020: करवा चौथ का त्योहार आज (4 नवंबर 2020) को देशभर में मनाया जा रहा है। यह व्रत पति-पत्नी के लिए बेहद खास होता है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं। चांद को देखने के बाद व्रत तोड़ा जाता है। इस दौरान चांद को अर्घ्य भी दिया जाता है। 

Karwa Chauth 2020 Moonrise Timing Delhi-NCR, Haryana and Punjab:

दिल्ली -  चंद्रोदय रात 08 बजकर 12 मिनट पर।
नोएडा -  चंद्रोदय  रात 08 बजकर 11 मिनट पर।
गुरुग्राम – चंद्रोदय रात 08:13 बजे।
गाजियाबाद में चंद्रोदय रात 8 बजकर 12 मिनट
हापु़ड़ में चंद्रोदय रात  शाम 8 बजकर 12 मिनट
फरीदाबाद में चंद्रोदय रात 8 बजकर 15 मिनट
सोनीपत में चंद्रोदय रात 8 बजकर 16 मिनट
हरियाणा- रात 08 बजकर 08 मिनट पर।

पंजाब में चांद निकलने का समय-

चंडीगढ़- 08:22 बजे शाम

अमृतसर- 08:28 बजे शाम

जालंधर- 08:28 बजे शाम

पटियाला- 08:26 बजे शाम

लुधियाना- 08:26 बजे शाम

अंबाला- 08:25 बजे शाम

करनाल- 08:24 बजे शाम

कुरुक्षेत्र- 08:25 बजे शाम

गुडग़ांव- 08:27 बजे शाम

पंचकूला- 08:22 बजे शाम

पानीपत- 08:26 बजे शाम

फरीदाबाद- 08:26 बजे शाम

रोहतक- 08:24 बजे शाम

हिसार- 08:31 बजे शाम

सोनीपत- 08:26 बजे शाम

करवा चौथ व्रत में प्रयोग होने वाली सामग्री लिस्ट-

चंदन, शहद, अगरबत्ती, पुष्प,  कच्चा दूध, शक्कर,  शुद्ध घी, दही, मिठाई, गंगाजल, अक्षत (चावल), सिंदूर, मेहंदी, महावर, कंघा, बिंदी, चुनरी, चूड़ी,  बिछुआ, मिट्टी का टोंटीदार करवा व ढक्कन,  दीपक, रुई, कपूर, गेहूं, शक्कर का बूरा, हल्दी, जल का लोटा, गौरी बनाने के लिए पीली मिट्टी, लकड़ी का आसन, चलनी, आठ पूरियों की अठावरी, हलुआ और दक्षिणा (दान) के लिए पैसे आदि।

करवा चौथ की आरती

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।

जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।। ओम जय करवा मैया।

सब जग की हो माता, तुम हो रुद्राणी।

यश तुम्हारा गावत, जग के सब प्राणी।।

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।

जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।।

कार्तिक कृष्ण चतुर्थी, जो नारी व्रत करती।

दीर्घायु पति होवे , दुख सारे हरती।।

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।

जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।।

होए सुहागिन नारी, सुख संपत्ति पावे।

गणपति जी बड़े दयालु, विघ्न सभी नाशे।।

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।

जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।।

करवा मैया की आरती, व्रत कर जो गावे।

व्रत हो जाता पूरन, सब विधि सुख पावे।।

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।

जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।।

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें