DA Image
12 दिसंबर, 2020|6:12|IST

अगली स्टोरी

Kartik Purnima 2020: कार्तिक पूर्णिमा के दिन जरूर की जाती है तुलसी पूजा, जानें कारण और महत्व

holy-plant-tulsi

Kartik Purnima 2020: कार्तिक पूर्णिमा पर इस बार सर्वार्थसिद्धि योग व वर्धमान योग बन रहे हैं। इस योग के कारण कार्तिक पूर्णिमा का महत्व कई गुना बढ़ गया है। बता दें, इस बार कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर सोमवार को मनाई जा रही है। इस दिन स्नान के साथ दान का भी बहुत बड़ा महत्व बताया गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा में या तुलसी के पास दीप जरूर जलाने चाहिए। आइए जानते हैं क्या है इसके पीछे छिपा कारण और धार्मिक महत्व। 

कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजन का धार्मिक महत्व-
हिंदू धर्म के अनुसार कार्तिक माह विष्णु जी को बेहद प्रिय होता है। कार्तिक मास की एकादशी के दिन तुलसी का भगवान विष्णु के शालीग्राम रूप के साथ विवाह हुआ था।

-कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजन इसलिए भी किया जाता है क्योंकि मान्यताओं के अनुसार इसी दिन तुलसी का पृथ्वी पर आगमन हुआ था। 

-मान्यता है कि इस दिन घर में तुलसी के पौधे के आगे दीपक जलाने और भगवान विष्णु की पूजा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।  

पूर्णिमा तिथि और शुभ मुहूर्त-
-कार्तिक पूर्णिमा आरंभ- 29 नवंबर 2020 को रात 12 बजकर 47 मिनट से
-कार्तिक पूर्णिमा समाप्त- 30 नवंबर 2020 को रात 02 बजकर 59 मिनट तक
-29 नवंबर की रात्रि में पूर्णिमा तिथि लगने के कारण 30 नवंबर को दान-स्नान किया जाएगा

तुलसी पूजन के पीछे छिपी वजह-
शास्त्रों के अनुसार तलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है। माना जाता है कि जिस घर में तुलसी होती है वहां पर मां लक्ष्मी का वास होता है। तुलसी का पौधा घर में आने वाली  नेगेटिव एनर्जी को रोकने के साथ-साथ रोगों के नाश करने में भी मदद करता है। पुराणों के अनुसार जिस घर पर कोई विपत्ति आने वाली होती है उस घर से सबसे पहले लक्ष्मी यानी तुलसी चली जाती है या सूख जाती है।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Kartik Purnima 2020: know the importance and reason why people do tulsi pooja on kartik purnima day