ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologykartik month Astrology in Hindi

मोक्ष प्रदान करने वाले इस माह में करें तपस्वियों के समान व्यवहार 

भगवान श्रीकृष्ण को प्रिय कार्तिक माह हिंदू पंचांग के अनुसार आठवां महीना है। यह माह व्रत-त्योहारों से भरा है, इसलिए यह पावन और महत्वपूर्ण माह है। इस माह स्नान, दान, पूजा और व्रत आदि का विशेष महत्व है।

मोक्ष प्रदान करने वाले इस माह में करें तपस्वियों के समान व्यवहार 
Arpanलाइव हिन्दुस्तान टीम,meerutSat, 15 Oct 2022 01:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भगवान श्रीकृष्ण को प्रिय कार्तिक माह हिंदू पंचांग के अनुसार आठवां महीना है। यह माह व्रत-त्योहारों से भरा है, इसलिए यह पावन और महत्वपूर्ण माह है। इस माह स्नान, दान, पूजा और व्रत आदि का विशेष महत्व है। कार्तिक माह में देवउठनी एकादशी, तुलसी विवाह, दीपावली, गोवर्धन पूजा और महापर्व छठ जैसे कई व्रत-त्योहार आते हैं। कलियुग में कार्तिक मास को मोक्ष के साधन के रूप में दर्शाया गया है। 

कार्तिक मास में तुलसी का रोपण करना सर्वोत्तम माना जाता है। इस माह दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इस माह पवित्र नदियों में ब्रह्ममुहूर्त में स्नान करने का विशेष महत्व है। इस माह की एकादशी को प्रबोधिनी एकादशी या देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन भगवान श्री हरि विष्णु चार माह की निंद्रा के बाद उठते हैं जिसके बाद से मांगलिक कार्य शुरू किए जाते हैं। इस माह तप करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। कार्तिक माह में दीपदान का विशेष महत्व है। इस माह पूजा-पाठ, अनुष्ठान, पवित्र स्नान करने से सभी प्रकार के पापों का नाश होता है। इस माह जमीन पर शयन करना फलदायी है। इस माह सात्विक भोजन करें और गलत विचारों को अपने ऊपर हावी ना होने दें। कार्तिक माह में तपस्वियों के समान व्यवहार करना चाहिए। कम बोलना चाहिए। किसी की निंदा या विवाद न करें, मन पर संयम रखें। इस माह संध्या काल में भगवान श्री हरि विष्णु की पूजा करें और तुलसी के समक्ष घी का दीपक जलाएं। कार्तिक मास में भगवान शालिग्राम की पूजा करना चाहिए। इस माह निस्वार्थ भाव से जरूरतमंद या असहाय लोगों को अन्न, धन, कंबल आदि का दान करें। इस माह दूसरे का दिया भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए। तेल एवं अधिक बीज वाले फलों का सेवन, चावल आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए। 

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें