kanya pujan ashtami navmi 2018 - Ram navmi 2018: नवमी के पूजन के समय नौ कन्याओं के साथ हो एक 'लंगूर', करें रामचरित मानस का पाठ DA Image
22 नवंबर, 2019|10:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Ram navmi 2018: नवमी के पूजन के समय नौ कन्याओं के साथ हो एक 'लंगूर', करें रामचरित मानस का पाठ

नवरात्रि के दिनों में लोग व्रत रखते है और इसके आखिरी दिन राम नवमी मनाई जाती है। इस बार अष्टमी और नवमी एक ही दिन है यानी 25 मार्च को। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां दुर्गा के 9 रूपों को पूजा की जाती है। मां को प्रसन्न करने के लिए लोग व्रत रखते हैं, पूजा-पाठ करते हैं, कन्या पूजन भी करते है। कन्या पूजन के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। 

हिंदू धर्म के अनुसार नवरात्रों में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। मां भगवती के भक्त अष्टमी या नवमी को कन्याओं की विशेष पूजा करते हैं। 9 कुंवारी कन्याओं को सम्मानित ढंग से बुलाकर उनके पैर धोकर कर आसन पर बैठा कर भोजन करा कर सबको दक्षिणा और भेंट देते हैं। नौं कन्याओं के साथ-साथ एक लंगूर को भी भोजन कराया जाता है।
 
इस दिन करें रामचरित मानस का पाठ

नवमीं के दिन भगवान राम का जन्म हुआ था। इसलिए इसे रामनवमी कहा जाता है। यह दिन खास होता है। ऐसे में रामचरित मानस का पाठ या फिर सुंदरकांड का पाठ किया जा सकता है।

Ram Navami 2018: अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजे ये Messages

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kanya pujan ashtami navmi 2018