jitiya vrat 2019: jivitputrika vrat for two days vrat related to Mahabharata read jiutia vrat katha and shubh muhurata - jitiya vrat 2019: इस बार दो दिन रखा जा रहा है जितिया व्रत, महाभारत काल से है इस व्रत का संबंध, पढ़ें व्रत की कथा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

jitiya vrat 2019: इस बार दो दिन रखा जा रहा है जितिया व्रत, महाभारत काल से है इस व्रत का संबंध, पढ़ें व्रत की कथा

jitiya vrat 2018

इस बार संतान की दीर्घायुष्य के लिए रखा जाने वाला व्रत जितिया दो दिन रखा जाता रहा है। अलग-अलग पंचांगों के अनुसार व्रत की तारीख अलग-अलग है।  बनारस पंचांग से चलने वाले श्रद्धालु 22 सितम्बर को जिउतिया व्रत रखेंगे और 23 सितम्बर की सुबह पारण करेंगे। वहीं मिथिला और विश्वविद्यालय पंचांग दरभंगा से चलनेवाले श्रद्धालु 21 सितम्बर को व्रत रखेंगे और 22 सितंबर की दोपहर तीन बजे पारण करेंगे। यह व्रत निर्जला रखा जाता है। आपको बता दें कि इस व्रत का संबंध महाभारत काल से भी है। 

कहा जाता है कि महाभारत के युद्ध में अपने पिता की मौत के बाद अश्वत्थामा बहुत नाराज था। उसके हृदय में बदले की भावना भड़क रही थी। इसी के चलते वह पांडवों के शिविर में घुस गया। शिविर के अंदर पांच लोग सो रहे थे। अश्वत्थामा ने उन्हें पांडव समझकर मार डाला। वे सभी द्रोपदी की पांच संतानें थीं। फिर अर्जुन ने उसे बंदी बनाकर उसकी दिव्य मणि छीन ली। अश्वत्थामा ने बदला लेने के लिए अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहे बच्चे को गर्भ को नष्ट कर दिया। ऐसे में भगवान श्रीकृष्ण ने अपने सभी पुण्यों का फल उत्तरा की अजन्मी संतान को देकर उसको गर्भ में फिर से जीवित कर दिया। गर्भ में मरकर जीवित होने के कारण उस बच्चे का नाम जीवित्पुत्रिका पड़ा। तब से ही संतान की लंबी उम्र और मंगल के लिए जितिया का व्रत किया जाने लगा।  


जिउतिया व्रत की पौराणिक कथाः
गन्धर्वराज जीमूतवाहन बड़े धर्मात्मा और त्यागी पुरुष थे। युवाकाल में ही राजपाट छोड़कर वन में पिता की सेवा करने चले गए थे। एक दिन भ्रमण करते हुए उन्हें नागमाता मिली, जब जीमूतवाहन ने उनके विलाप करने का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि नागवंश गरुड़ से काफी परेशान है, वंश की रक्षा करने के लिए वंश ने गरुड़ से समझौता किया है कि वे प्रतिदिन उसे एक नाग खाने के लिए देंगे और इसके बदले वो हमारा सामूहिक शिकार नहीं करेगा। इस प्रक्रिया में आज उसके पुत्र को गरुड़ के सामने जाना है। नागमाता की पूरी बात सुनकर जीमूतवाहन ने उन्हें वचन दिया कि वे उनके पुत्र को कुछ नहीं होने देंगे और उसकी जगह कपड़े में लिपटकर खुद गरुड़ के सामने उस शिला पर लेट जाएंगे, जहां से गरुड़ अपना आहार उठाता है और उन्होंने ऐसा ही किया। गरुड़ ने जीमूतवाहन को अपने पंजों में दबाकर पहाड़ की तरफ उड़ चला। जब गरुड़ ने देखा कि हमेशा की तरह नाग चिल्लाने और रोने की जगह शांत है, तो उसने कपड़ा हटाकर जीमूतवाहन को पाया। जीमूतवाहन ने सारी कहानी गरुड़ को बता दी, जिसके बाद उसने जीमूतवाहन को छोड़ दिया और नागों को ना खाने का भी वचन दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jitiya vrat 2019: jivitputrika vrat for two days vrat related to Mahabharata read jiutia vrat katha and shubh muhurata