DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Janmashtami 2019: कृष्ण जी के 56 भोग के पीछे है ये पौराणिक कथा

radha krishna mathura

जन्माष्टमी पर कान्हा को 56 भोग चढ़ाया जाता है। इस भोग के पीछे भी पौराणिक कथा है। भगवान श्रीकृष्ण को माता यशोदा एक दिन के आठ पहर खाना खिलाती थीं। इंद्र के प्रकोप से जब ब्रज को बचाने के लिए श्रीकृष्ण ने गोवर्द्धन पर्वत उठाया तो सात दिनों तक वर्षा नहीं रुकी। इस दौरान किसी ने भोजन नहीं किया। 

Janmashtami 2019: जन्माष्टमी पर 200 साल पुराने श्रीकृष्ण मंदिर जाएंगे मोदी, देखें इस मंदिर की Pics

आठवें दिन जब वर्षा रुकी तो ब्रजवासियों ने आठ पहर भोजन खाने वाले भगवान श्रीकृष्ण के लिए सात दिनों के आठ पहर के खाने के लिए विभिन्न व्यंजनों को बनाया और चाव से भगवान को खिलाया। इस्कॉन मंदिर के पुजारी सौरभ महेन्द्र ने बताया कि इन्हीं को 56 भोग कहा गया। उन्होंने बताया इसलिए कृष्ण को 56 भोग चढ़ता है।.

 ये होते हैं 56 भोग के व्यंजन
इसमें चावल, दाल, चटनी, कढ़ी, दही शाक की कढ़ी, सिखरन, आंवले का शरबत, बाटी, मुरब्बा, त्रिकोण, बड़ा, मठरी, फेनी, पूरी, खजला, घेवर, मालपुआ, चोला, जलेबी, मेसू, रसगुल्ला, चंद्रकला, रायता, थूली, लौंगपुरी, खुरमा, दलिया, परिखा, सौंफ, बिलसारू, लड्डू, साग, अचार, मोठ, खीर, दही, घी, मक्खन, मलाई, रबड़ी, पापड़, सिरा, मोहनभोग, सुपारी, इलाइची, फल, तांबूल, नमक से बना व्यंजन, मिर्च, मीठे के अलावा 56 भोग की थाली में भक्त अपनी इच्छा से शाकाहारी खाने का भोग लगा सकते हैं।

Janmashtami 2019: 14 वर्षों के बाद श्रीकृष्ण जन्माष्टमी में बना महासंयोग वरदान के बराबर
 
मथुरा से होगा लाइव प्रसारण
मथुरा की जन्माष्टमी का लाइव प्रसारण 24 अगस्त को डीडी भारती, दूरदर्शन के अलावा दूरदर्शन बांग्ला पर किया जाएगा। श्रीकृष्ण के जन्मस्थान की पावन भूमि में बने भागवत भवन का जन्मोत्सव दूरदर्शन पर रात 11 बजकर 25 मिनट पर प्रसारित किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Janmashtami 2019: This mythological story is behind 56 bhog of Bhagavan Krishna ji
Astro Buddy