DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Janmashtami 2019: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर राशि के अनुसार करें इन मंत्रों का जाप

happy janmashtami

हर तरफ समां में राधे राधे समा गया है। जन्माष्टमी की धूम है। 23 और 24 अगस्त दोनों दिन जन्माष्टमी मनाई जा रही है। इस बार शुक्रवार व शनिवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी होने से लगभग चौदह वर्षों बाद एक साथ छत्र योग, श्रीवत्स योग और सौभाग्यसुंदरी योग बन रहा है, जो श्रीकृष्ण पूजन व व्रत करनेवालों के अति फलदायी है। धार्मिक मान्यता है कि भगवान विष्णु ने पृथ्वी को पापियों से मुक्त करने के लिए श्रीकृष्ण के रूप में भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को रोहिणी नक्षत्र में अवतार लिया था। हर साल भाद्रपद की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाता है। 

ज्योतिषी प्रियेंदू प्रियदर्शी ने बताया कि शुक्रवार 23 अगस्त की सुबह 8.09 बजे से 24 अगस्त की सुबह 8.32 बजे तक अष्टमी तिथि है। वहीं रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त की सुबह 3.48 बजे से 25 अगस्त की सुबह 4.17 बजे तक है। 

जन्माष्टमी व्रत, पूजन से पापों का होता है नाश 
ज्योतिषाचार्य पीके युग ने धर्मशास्त्रों के हवाले से बताया कि भाद्र पद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। इस तिथि पर व्रत रखने और पूजन से तीन जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं। 

Janmashtami 2019: राशि के मुताबिक लगाएं श्रीकृष्ण को भोग, पढ़ें पूरी डिटेल

कृष्ण जन्माष्टमी पूजन मुहूर्त

24 अगस्त, शनिवार
पूजा मुहूर्त : रात 12:02 बजे से 12: 47 बजे तक

ये करें अर्पण, बरसेगी कृपा
-गुलाब जल में  इत्र डालकर, गुड़ सहित माखन का भोग लगाने से सौभाग्य की प्राप्ति होगी   
-हल्दी, केसर चढ़ाने से वैवाहिक और न्यायिक कार्य में सफलता मिलेगी 
-गुड़ से बनी खीर, हलवा आदि चढ़ाने से स्वास्थ्य ठीक रहेगा

करें पाठ:- गोपाल सहस्त्रनाम, पुरुष सूक्त
करें मंत्र का जाप:-ओम नमो भगवते वासुदेवाय गोविंदाय नमो नम:

भोग लगाएं माखन का  
आचार्य विपेन्द्र माधव के मुताबिक श्रीकृष्ण भगवान को नैवेद्य में माखन जरूर चढ़ाएं। साथ में दूध से बनी सामग्री,फल,बेसन के लड्डू व खीर का भोग लगाएं। नैवेद्य में धान के लावा की खीर भी चढ़ाएं। 

राशि के अनुसार मंत्र जाप 
मेष: ओम कमलनाथाय नम:
वृष: श्रीकृष्णाष्टक का पाठ, सफेद फूल चढ़ाएं
मिथुन: ओम गोविंदाय नम:
कर्क: राधाष्टक का पाठ,सफेद फूल चढ़ाएं 
सिंह: ओम कोटि सूर्य संप्रयाय नम:
कन्या: ओम देवकीनंदनाय नम:
तुला: ओम लीलाधराय नम:
वृश्चिक: ओम बराहाय नम:
धनु, मीन : ओम नमो भगवते वासुदेवाय नम:
मकर, कुंभ : ओम नमो कृष्ण वल्लभाय नम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Janmashtami 2019: shri krishna mantra Puja Vidhi Muhurat Timings Samagri
Astro Buddy