DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

janmashtami 2019: इस तारीख को है जन्माष्टमी, यह है पूजा का मुहूर्त

radha krishna mathura

हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण जन्माष्टमी या भगवान श्रीकृष्ण की जयंती भद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि (आठवें दिन) को मनाई जाती है। भगवान श्रीकृष्ण को भगवान विष्णु का एक अवतार माना जाता है। अष्ठमी की रात 12 बजे भगवान का श्रीकृष्ण का संकेतिक रूप से जन्म होने पर व्रत का परायण किया जाता है। बहुत से लोग मथुरा जाकर भगवान श्रकृष्ण की जन्मभूमि का दर्शन करते हैं।

मथुरा में दीपक ज्योतिष भागवत संस्थान के कामेश्वर चतुर्वेदी ज्योतिषाचार्य और पंकज चतुर्वेदी ज्योतिषाचार्य ने कहा है कि कि 23 अगस्त को प्राचीन गणित के पंचांगों के अनुसार और श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी और 24 अगस्त को दृश्य गणित के पंचांग के अनुसार वैष्णव लोग तथा रोहिणी नक्षत्र को मानने वाले लोग श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाएंगे। ज्योतिषाचार्य ने कहा है कि द्वापर युग के अंत में मथुरा पुरी में कंस के कारागार में भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ था, उस समय भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि एवं रोहिणी नाम का नक्षत्र था, बुधवार था। मध्यरात्रि को निशीथ वेला में श्री कृष्ण अवतरित हुए थे।

ये है मुहूर्त

अष्टमी तिथि- 24 अगस्त की रात्रि 12:01 से 12:46 तक

Janmashtami 2019: जानिए इस बार कब मनाया जाएगा जन्माष्टमी का त्योहार
ऐसे रखें व्रत

जन्‍माष्‍टमी के दिन सुबह स्‍नान करने के बाद भक्‍त व्रत का संकल्‍प लेते हुए अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्‍टमी तिथि के खत्‍म होने के बाद पारण यानी कि व्रत खोल सकते हैं। कृष्‍ण की पूजा आधी रात को की जाती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:janmashtami 2019: Janmashtami is on this date this is the time of worship
Astro Buddy