DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Janmashtami 2019: ब्रज में आज जन्मेंगे कन्हाई, जानें कृष्ण का रोहिणी नक्षत्र में क्यों हुआ जन्म

happy janmashtami

योगीराज श्रीकृष्ण के जन्म से जुड़े हुए कुछ रहस्य हैं। इनमें एक रहस्य चन्द्रोदय को लेकर है। शनिवार-रविवार की मध्य रात्रि को चन्द्रदेव भी चन्द्रवंशी भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के दुर्लभ पलों का इंतजार करेंगे। श्रीमद्भभागवत के अनुसार द्वापर में घटित हुई यह घटना आज भी साकार होती है। इस दुर्लभ नजारे को देखने के लिए हर कोई आतुर है। 

रोहिणी नक्षत्र में क्यों जन्म
 योगीराज श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में क्यों हुआ? पं. अमित भारद्वाज कहते हैं कि चंद्रमा की प्रिय पत्नी रोहिणी है, इसीलिए कृष्ण ने रोहिणी नक्षत्र में जन्म लिया। कृष्ण अवतरण के समय आकाश में चंद्रदेव भी उदय हुए।

श्रीमद्भागवत दशम स्कंध में कृष्ण जन्म प्रसंग में उल्लेख मिलता है कि जिस समय पृथ्वी पर अर्धरात्रि में कृष्ण अवतरित हुए ठीक उसी समय आकाश में कृष्ण के पूर्वज चंद्रदेव प्रकट हुए। नारायण द्वारा अपने कुल में जन्म को लेकर चंद्रमा को उत्सुकता थी, वह अपने वंशज के जन्म का साक्षी बने। कहा जाता है कि ब्रज में उस समय पर घनघोर बादल छाए थे, लेकिन चंद्रदेव ने दव्यि दृष्टि से अपने वंशज को जन्म लेते दर्शन किये। आज भी कृष्ण जन्म के समय अर्धरात्रि में चंद्रमा उदय होता है। उस समय धर्मग्रंथ में अर्धरात्रि का जिक्र है। पं. अमित भारद्वाज के अनुसार अर्धरात्रि यानि आज की भाषा में रात्रि 12 बजे का या 12 बजे के लगभग का समय। 24 तारीख को चंद्रोदय रात्रि 24 बजे यानी 12 बजे का पंचांग में दिया हुआ है। ज्योतिष समाधान केन्द्र के संचालक पं. लक्ष्मणदास शर्मा ने बताया कि इस बार शनिवार व रविवार की रात्रि चन्द्रोदय 11.40 बजे होगा। यह समय श्रीकृष्ण के अवतरण का समय होगा, उल्लेख ब्रजभूमि पंचांग में है। 


कृष्ण का 5247 वां जन्मदिन 
यह भगवान श्रीकृष्ण का 5247 वां प्राकट्योत्सव है। द्वापरयुग के 8,63,874 वें वर्ष में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहणी नक्षत्र में 3228 ईसा पूर्व में जब अर्धरात्रि को चंद्रमा अपनी उच्च राशि ( वृष) में उदय हो रहा था, तब श्रीकृष्ण ने माँ देवकी के गर्भ से मथुरा में अपने मामा कंस की कैद में जन्म लिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Janmashtami 2019: bhagavan krishna will be born in Braj today know why Krishna was born in Rohini Nakshatra
Astro Buddy