ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyIf Surya is strong in horoscope you will enter politics you will also become famous

कुंडली में इन ग्रह के मजबूत होने से पॉलिटिक्स में आएंगे, रातों रात फेमस भी होंगे, बार-बार जीतेंगे भी

If this planet is strong in the horoscope: अगर आप पॉलिटिक्स में नाम कमाना चाहते हैं, तो आपको अपनी कुंडली में इस ग्रह की स्थिति के बारे में जानना चाहिए। इस ग्रह के मजबूत होने पर आप न सिर्फ पॉलिटिक्स मे

कुंडली में इन ग्रह के मजबूत होने से पॉलिटिक्स में आएंगे, रातों रात फेमस भी होंगे, बार-बार जीतेंगे भी
Anuradha Pandeyलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 30 May 2024 01:46 PM
ऐप पर पढ़ें

 strong in the horoscope: अगर आप पॉलिटिक्स में नाम कमाना चाहते हैं, तो आपको अपनी कुंडली में इस ग्रह की स्थिति के बारे में जानना चाहिए। इस ग्रह के मजबूत होने पर आप न सिर्फ पॉलिटिक्स मे जाएंगे, बल्कि रातों-रात फेमस भी हो जाएंगे। आपकी कुंडली आपके बारे में काफी कुछ जानकारी देती है। आपको बता दें कि इससे आपके स्वभाव, भविष्य, आपकी पढ़ाई-लिखाई आदि के बारे में जानकारी मिलती है। इसलिए कुंडली यानी अपनी जन्मपत्री को किसी योग्य ज्योतिष को दिखाना चाहिए। अगर आप पॉलिटिक्स में जाना चाहते हैं, तो आपको सूर्य की स्थिति के बारे में पता होना चाहिए। कहा जाता है कि सूर्य की मजबूत स्थिति आपकी राजनीति में जाने का आपका रास्ता खोलती है। जैसा कि आप जानते हैं किसूर्य आत्मविश्वास, नेतृत्व, शक्ति, यश, प्रसिद्धि, सम्मान, और पिता जैसी चीजों के कारक ग्रह माने जाते है, इसलिए यह राजनीति, प्रशासन, उच्च पद और सरकारी नौकरी का कारक माना जाता है।जिनकी कुंडली में सूर्य मजबूत होता है वह लोग आत्मविश्वासी और प्रभावशाली नेता बनते हैं और राजनीति में अच्छा मुकाम हासिल करते हैं।

सूर्य: नौ ग्रहों में सूर्य को राजा माना गया है। इसलिए अगर सूर्य आपकी कुंडली में सूर्य लग्न, चतुर्थ, नवम या दशम भाव में हो तो राजनीति में अपार सफलता मिलेगी। वहीं शनि की भी अच्छे राजनेता के बनने के पीछे शनिदेव भी हैं, अगर आपकी कुंडली में शनि केन्द्र में, उच्च के, स्वराशि व मूल त्रिकोण में हो तो राजनीति में एक बार नहीं बार-बार जीतते हैं। अगर राहु आपकी कुंडली में सातवें, 10वें और 11वें भाव में है, तो आप हाई पोस्ट पर जाएंगे।

ये विशेष योग भी आपको  पॉलिटिक्स में स्टार बना देते हैं
सूर्य एवं राहु बली होना व केंद्र और दशमेश मे होना।
चतुर्थेश, नवमेश और दशमेश केंद्र या त्रिकोण में होना।
शनि का दशम भाव में या दशमेश से संबध होना।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।