Hindi Newsधर्म न्यूज़Horoscope 27 April 2020 Virgo zodiac may business benefit and cancer zodiac will get good news

राशिफल 27 अप्रैल: कन्या राशि को व्‍यापारिक लाभ के आसार और कर्क राशि के जातकों को मिल सकता है शुभ समाचार, जानें अन्य राशियों का हाल

ग्रहों की स्थिति-सूर्य और बुध मिलकर बुधादित्‍य राजयोग बनाकर बहुत अच्‍छी स्थिति में मेष राशि में हैं। वृषभ राशि में शुक्र स्‍वग्रही होकर उच्‍च का चंद्रमा होकर बहुत अच्‍छे योग का...

b
Pratima Jaiswal ज्‍योतिषाचार्य पंडित नरेन्‍द्र उपाध्‍याय, गोरखपुरSun, 26 April 2020 08:56 PM
हमें फॉलो करें

ग्रहों की स्थिति-सूर्य और बुध मिलकर बुधादित्‍य राजयोग बनाकर बहुत अच्‍छी स्थिति में मेष राशि में हैं। वृषभ राशि में शुक्र स्‍वग्रही होकर उच्‍च का चंद्रमा होकर बहुत अच्‍छे योग का निर्माण कर रहे है। राहु मिथुन राशि में हैं। यह भी उच्‍च का योग बनता है। केतु धनु राशि में हैं। मकर राशि में शनि, मंगल और गुरु अभी भी बने हुए हैं जो अच्‍छी स्थिति में नहीं हैं। जनमानस के लिए अच्‍छा नहीं है। कुल मिलाकर ग्रहों की स्थिति थोड़ी सुधर रही है लेकिन रिस्‍क लेने लायक आज भी नहीं है। बहुत बचकर पार करें क्‍योंकि हमारे सौर मंडल के जो सबसे महत्‍वपूर्ण और बड़े ग्रह हैं वे संक्रमण काल में हैं। बहुत जरूरी है कि इस समय आप बहुत बचकर पार करें।  

राशिफल-
मेष-
स्थिति अच्‍छी है। धनागमन होगा। कहीं से कुछ इंतजाम होगा। कुटुम्‍बीजनों से अच्‍छे वातावरण में कुछ बातचीत होगी। हर लिहाज से अच्‍छा समय है। बस रिस्‍क लेने लायक नहीं है क्‍योंकि लग्‍नेश अच्‍छी स्थिति में नहीं है। स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान दें। हनुमान जी का स्‍मरण करें।


वृषभ-बड़े बुजुर्गों से न उलझें। सरकारी लोगों के खिलाफ न जाएं नहीं तो दिक्‍कत हो सकती है। प्रेम,व्‍यवसाय,स्‍वास्‍थ्‍य तीनों की अच्‍छी स्थिति है लेकिन रिस्‍क लेने लायक आप नहीं हैं। नियमों का पालन करते हुए काम करें। गणेश जी की वंदना करें।

मिथुन-स्थिति पहले से सुधार में हैं। हर दृष्टिकोण से नए आयाम आपके जीवन में आएंगे। बस थोड़ा धैर्य के साथ काम करें। चाहे वो स्‍वास्‍थ्‍य हो, प्रेम हो या व्‍यापार हो। मां काली का मानसिक रूप से स्‍मरण करें। सब अच्‍छा होगा।

कर्क-कुछ सुखद समाचार की प्राप्ति हो सकती है। पहले से बेहतर महसूस करेंगे। मानसिक, शारीरिक और हर दृष्टिकोण से। अभी मन थोड़ा विस्‍मयकारी रहता है। इन चीजों का ध्‍यान दें। प्राणायाम करें। भगवान शिव की अराधना करें।

सिंह-उच्‍चाधिकारियों का आशीर्वाद मिल सकता है। अच्‍छे समाचार की प्राप्ति हो सकती है। लॉकडाउन का पालन करते हुए कुछ व्‍यवसायिक स्थिति आपकी अच्‍छी बन सकती है। स्‍वास्‍थ्‍य, प्रेम, व्‍यवसाय तीनों की पहले से बेहतर स्थिति दिखाई पड़ रही है। सूर्यदेव को जल देना जारी रखें।

कन्‍या-स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार है। व्‍यापारिक रूप से कुछ आश्‍वासन मिल सकता है। प्रेम की स्थिति भी कुछ बातचीत से सुधारी जा सकती है। सारी स्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं। बस शारीरिक और सरकारी रूप से जो चीजें हैं उन्‍हें मानते हुए आगे बढ़ें। शनिदेव का स्‍मरण करते हुए आगे बढ़ें।

तुला-चोट लग सकती है। घर में भी सावधान रहें। शारीरिक रूप से कोई रिस्‍क न लें। स्‍वास्‍थ्‍य में मूत्र से सम्‍बन्धित कोई परेशानी न होने पाए।  ब्‍लड प्रेशन न बढ़ने पाए। स्‍वास्‍थ्‍य मध्‍यम, प्रेम में थोड़ी अच्‍छी स्थिति नहीं दिख रही है। व्‍यवसायिक दृष्टि से घर में रहते हुए कुछ जुड़ रहा है। बहुत परेशान न हों। मां काली का स्‍मरण करें। भगवान शिव की वंदना करें।

वृश्चिक-जीवनसाथी के साथ मधुरता बढ़ेगी। व्‍यवसायिक क्षेत्र में कुछ अच्‍छे समाचार की प्राप्ति हो सकती है। कुल मिलाकर रिस्‍क न लें। लग्‍नेश की स्थिति अच्‍छी नहीं है। लाल वस्‍तु पास रखें। हनुमान चालीसा का पाठ करें।

धनु-शत्रु उपद्रव सम्‍भव है। शत्रु शमन भी सम्‍भव है। किसी महिला से न उलझें। प्रेम, व्‍यापार और स्‍वास्‍थ्‍य तीनों मध्‍यम दिख रहा है। हनुमान चालीसा का पाठ करें। बजरंग बली का स्‍मरण करें।

मकर-निर्णय लेने की क्षमता में बढ़ोत्‍तरी होगी लेकिन भावुक होकर निर्णय न लें। स्‍वास्‍थ्‍य ठीक है। व्‍यापार पहले से बेहतर स्थिति में आएगा। कुछ आश्‍वासन मिल सकता है, लॉकडाउन में भी आपके लिए कुछ अच्‍छा हो सकता है। कुल मिलाकर ठीक है लेकिन रिस्‍क लेने लायक आप नहीं हैं। शनिदेव को मानसिक रूप से प्रणाम करें।

कुंभ-स्‍वास्‍थ्‍य और उर्जा पर ज्‍यादा ध्‍यान दें। प्रेम की स्थिति में सुधार है। व्‍यवसायिक क्षेत्र में भी कुछ अच्‍छे समाचार की प्राप्ति हो सकती है। गणेश जी की वंदना करें।

मीन-कुछ नया अध्‍याय जुड़ सकता है। कुछ सकारात्‍मक उर्जा का संचार होगा। पहले से बेहतर होंगे। बस धैर्य से रहें। सरकारी तंत्र के खिलाफ न जाएं। स्‍वास्‍थ्‍य मध्यम,प्रेम की स्थिति अच्‍छी है। कुछ व्‍यवसायिक आश्‍वासन मिल सकता है। भगवान शिव की अराधना करें।

प्रस्‍तुति-
अजय कुमार सिंह
गोरखपुर

 

ऐप पर पढ़ें