DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Holi 2019: होली की भस्म से मिलते हैं इतने फायदे, सिर्फ करना होगा ये काम

हिन्दू धर्म की मान्याताओं के मुताबिक हिरण्याकश्यप की बहन होलिका के पास ऐसा कपड़ा था। जिसे पहनने के बाद वह आग में नहीं जल सकती थी। इसलिए होलिका अपने भाई के कहने पर उसके बेटे प्रह्लाद को लेकर चिता पर बैठ गई थी। मगर प्रह्लाद की भक्ति और भगवान विष्णु की कृपा से होलिका भस्म हो गई थी और भक्त प्रह्लाद सकुशल निकल आए थे। मानते हैं कि, होलिका के नाम पर ही होली शब्द रखा गया।

तब से ही लोग बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में हर साल होलिका दहन करते हैं। इसके अगले दिन रंगों और प्यार से होली का त्योहार मनाते हैं। लोगों का मानना है कि इस दिन लोग आपस के मन-मुटावों को भूलकर आपस में प्रेम भी भावना से मिलते हैं।

लेकिन इसके साथ एक और मान्यता मानी जाती है। लोग होलिका दहन के अगले दिन सुबह होली जलने के स्थान पर जाते हैं और वहां होली की भस्म उड़ाकर धुलेंडी मनाते हैं। कुछ लोग इस दौरान होली की भस्म को अपने घर भी ले आते हैं। दरअसल, इस भस्म का काफी महत्व है, इसलिए लोग इसे घर लाते हैं।

एक मान्यता है कि होली की भस्म शुभ होती है और इसमें कई देवताओं की कृपा होती है। इस भस्म को माथे पर लगाने से भाग्य अच्छा होता है और बुद्धि बढ़ती है। दूसरी मान्यता यह है कि ये भस्म शरीर के अंदर स्थित दूषित द्रव्य सोख लेती है। इसलिए भस्म लेपन करने से कई तरह के चर्म रोग खत्म हो जाते हैं। एक अन्य मान्यता में होली की भस्म को अगले दिन प्रात: घर में लाने से घर को नकारात्मक शक्तियों और अशुभ शक्तियों से बचाया जा सकता है। कुछ लोग ताबीज में भरकर इसे पहनते हैं, ताकि बुरी आत्माओं और तंत्र-मंत्र का उन पर असर नहीं हो।

होलिका दहन पर पूजा करने से मिलता है पितरों का आशीर्वाद

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:holi 2019 holika bhasam has so many benefits