ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyHartalika Teej 2023 Muhurat Time The puja time for Hartalika Teej fast puja vidhi and shubh timing

हरतालिका तीज 2023 मुहूर्त टाइम: आज हरतालिका तीज व्रत का शाम 4 बजे के बाद बन रहा पूजन मुहूर्त, आप भी जान लें

Hartalika Teej Vrat Pujan Muhurat 2023: हरतालिका तीज व्रत में भगवान शंकर और मां उमा (पार्वती) की विधिवत पूजा-अर्चना की जाती है। तीज व्रत की पूजन में शुभ मुहूर्त का भी विचार किया जाता है।

हरतालिका तीज 2023 मुहूर्त टाइम: आज हरतालिका तीज व्रत का शाम 4 बजे के बाद बन रहा पूजन मुहूर्त, आप भी जान लें
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 18 Sep 2023 02:05 PM
ऐप पर पढ़ें

Hartalika Teej Fast Lord Shiva and Maa Parvati Pujan Muhurat: भगवान शिव व माता पार्वती को समर्पित व्रत हरतालिका तीज का सुहागिनों को बेसब्री से इंतजार रहता है। इस साल हरतालिका तीज व्रत 18 सितंबर 2023, सोमवार को रखा जाएगा। मान्यता है कि इस व्रत को रखने से सुहागिनों को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है और कुंवारी कन्याओं को मनचाहा वर प्राप्त होता है। इस व्रत में महिलाएं 24 घंटे निर्जला व्रत रखती हैं। रात भर जागकर भजन-कीर्तन करती हैं। 

हरतालिका तीज व्रत नियम 2023: हरियाली तीज का व्रत कैसे किया जाता है, जान लें ये जरूरी बातें

हरतालिका तीज व्रत का पूजन मुहूर्त- 18 सितंबर को हरतालिका तीज व्रत पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 06 बजकर 07 मिनट से सुबह 07 बजकर 39 मिनट तक रहेगा। शाम को 04:51 पी एम से 06:23 पी एम तक रहेगा।

हरतालिका तीज व्रत कथा: हरतालिका तीज व्रत हर साल भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज व्रत रखा जाता है। यह व्रत पहली बार मां पार्वती ने भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए रखा था। मां पार्वती ने अन्न, जल त्याग कर कठिन तपस्या की, जिसके बाद भगवान शिव ने मां पार्वती को पत्नी रूप में स्वीकार करने का वचन दिया था।

 हरतालिका तीज व्रत पारण के दिन भद्रा का पृथ्वी लोक में वास, जानें इसके मायने

हरतालिका तीज व्रत पूजन विधि: हरतालिका तीज व्रत की शुरुआत एक दिन पहले आधी रात से हो जाती है। महिलाएं सोलह शृंगार कर चौकी पर भगवान गणेश, मां पार्वती और भोलेनाथ की मिट्टी की प्रतिमा स्थापित करती हैं। सबसे पहले विघ्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा की जाती है। इसके बाद मां पार्वती को सुहाग का जोड़ा और शृंगार की सामग्री अर्पित करते हैं। हरतालिका तीज की कथा सुनाकर भगवान शिव और माता पार्वती की आरती की जाती है। मान्यता है कि तीज की कथा पढ़ने या सुनने के बाद ही व्रत पूरा होता है।