अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरितालिका तीज 2018 : इस मंत्र के जाप से होगी अविरल दाम्पत्य सुख की प्राप्ति

हरितालिका तीज

अखंड सौभाग्य का व्रत हरितालिका तीज भाद्रपद (भादो) शुक्ल पक्ष तृतीया बुधवार 12 सितम्बर को है। शक्ति ज्योतिष केन्द्र के पण्डित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार शिव-पार्वती के पुनर्मिलन की तिथि भाद्रपद शुक्ल तृतीया का व्रत दाम्पत्य जीवन के दुखों को दूर करके परम सुख देने वाला है। जिनका दाम्पत्य जीवन किन्हीं कारणों से कष्ट में है वे विधि पूर्वक व्रत रख कर शाम प्रदोष वेला में अपने पति के साथ भगवान शिव के मन्दिर में जाकर पूजन करें। यदि किसी कारण से मन्दिर नहीं जा सकते तो घर में ही केले के पत्ते पर शिव-पार्वती जी और गणेश जी की मूर्ति स्थापित करके पति के साथ पूजन करें। माता पार्वती को सुहाग का सामान, शिव जी को वस्त्र तथा गणेश जी को लड्डू और जनेउ अर्पित करें। अगले दिन सारा सामान उठा कर सास के चरण से लगाकर उनका आशीर्वाद लें। व्रत के दिन क्रोध, झूठ, कपट, निन्दा से दूर रहकर मन को श्री शिव पार्वती में लगायें और उनका ध्यान करें ‘श्री भगवते साम्ब शिवाय नमः’ का अखण्ड जप पूरे व्रत में करते रहें। अविरल दाम्पत्य सुख की प्राप्ति होगी।

इस शुभ मुहूर्त में करें पूजन 
 
पण्डित शक्तिधर त्रिपाठी ने बताया कि इस वर्ष की तृतीया चतुर्थी से युक्त होने के कारण विशेष फलदायी है। श्रीशिव-पार्वती के पूजन का शुभ मुहूर्त शाम पांच से 6:50 बजे के मध्य है। चतुर्थी सहिता या तु सा तृतीया पुत्र पौत्र प्रवर्धनी। श्री त्रिपाठी के अनुसार इसी दिन कलंक चतुर्थी भी है, जिसमें चन्द्रमा देखने से कलंक लगता है। अतः नियत समय तक चन्द्र दर्शन से बचना चाहिए। गणना के अनुसार 12 सितम्बर को रात  08:18 बजे चन्द्रमा अस्त हो जाएंगे, तब तक चंद्र दर्शन से बचें।

Hartalika Teej 2018: करवाचौथ से भी कठिन माना जाता है यह व्रत, जानें क्यों

Hartalika Teej 2018: भगवान शिव को पाने के लिए पार्वती ने लिए थे 107 जन्म, ऐसे करें पूजा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hartalika Teej 2018 chant this mantra to get Marital happiness