अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगे बढ़ना है तो करें त्रिपुर सुंदरी की पूजा, गुप्त नवरात्रि की तीसरी आद्य महाविद्या हैं त्रिपुर सुंदरी

त्रिपुरा सुंदरी

गुप्त नवरात्रि की तीसरी आद्य महाविद्या हैं त्रिपुर सुंदरी। अनुपम सौंदर्य, भक्तों को अभय प्रदान करने वाली, यौवनयुक्त और तीनों लोकों में विराजमान देवी त्रिपुर सुंदरी कई नामों से ख्यात हैं। इनको ही राज-राजेश्वरी, बाला, ललिता, मीनाक्षी, कामाक्षी, शताक्षी, कामेश्वरी कहा जाता है। स्त्री के सौंदर्य शास्त्र की जितनी भी उपमाएं हैं, वह सभी देवी त्रिपुर सुंदरी से ही आई हैं।  देवी और अन्य देवी देवताओं के पूजन में अनिवार्य रूप से षोड्श माताओं की अर्चना होती है। षोड्श माताएं कोई और नहीं वरन् त्रिपुर सुंदरी के रूप में ही एकाकार हैं। सोलह का अंक इनको प्रिय है। वह सोलह कलाओं की साम्राज्ञी हैं। अपनी सुंदरता और मोहकता से इन्होंने देवासुर संग्राम में असुरों को वश में कर लिया था। श्री दुर्गा सप्तशती में शुंभ-निशुम्भ वध में इनका प्रसंग आता है। देवी अपने अप्रतिम सौंदर्य की छटा बिखेरते हुए पर्वत पर विराजमान हैं। असुर मोहित हो जाते हैं। वह शुम्भ और निशुम्भ से कहते हैं कि आपके पास समस्त संपत्ति हैं। निधियां हैं। यदि यह स्त्री रूपी निधि भी आपको मिल जाए तो आप धन्य हो जाएंगे। बारी-बारी से चंड-मुंड देवी के पास पहुंचते हैं। देवी से कहते हैं कि आप शुम्भ और निशुम्भ में से किसी का वरण कर लो। देवी कहती हैं कि मैंने तय किया है कि जो मुझे युद्ध में परास्त कर देगा, मैं उसी का वरण करूंगी। कालांतर में देवी से युद्ध होता है। चंड-मुंड और शुम्भ और निशुम्भ का वध होता है।

अनुपम निधि है सौंदर्य
सौंदर्य को  निधि कहा गया है। सौंदर्य कीउपमा श्री लक्ष्मी से होती है। त्रिपुर सुंदरी कमला ही हैं। भगवती सोलह प्रकार की कलाओं, सोलह प्रकार की मनोकामनाओं और सोलह माताओं की प्रतीक हैं। सौंदर्य का अर्थ केवल रूप नहीं है। चारित्रिक गुण भी सौंदर्य भी इसी श्रेणी में आते हैं। जो हर प्रकार से सुंदर हो, वही त्रिपुरारी है और वही त्रिपुरा है। त्रिपुरा एक कुल की तरह है जैसे त्रिपुर बाला सुंदरी, त्रिपुर भैरवी और त्रिपुरा। त्रिपुरा की आराधना से ही एक राज्य का नाम ही त्रिपुरा पड़ा। कामाख्या मंदिर और त्रिपुर बाला सुंदरी मंदिर ( देवबंद) सहित देश में कई स्थानों पर इनके मंदिर हैं।

जानिए, क्या है सौंदर्य और क्या हैं त्रिपुर सुंदरी
त्रिपुर सुंदरी की आराधना से कमला नाम से विख्यात दसवी महाविद्या धन की अधिष्ठात्री हुई । उनको श्री की उपाधि मिली। श्री यंत्र जो यंत्र शिरोमणि हैं। त्रिपुर सुंदरी की आराधना करने वाले भक्त को लौकिक और पारलौकिक शक्तियां प्राप्त होती हैं। तंत्र शास्त्र में मारण, मोहन, वशीकरण, उच्चाटन और स्तम्भन की महत्ता है। अर्थात शमन और दमन करने की शक्ति है। देवी शास्त्र में यही शक्तियां कही गई हैं। अब इसका अर्थ समझें। यह केवल तांत्रिक विद्या नहीं है। मोहक वाणी हो, मधुर हो, दूसरों को वशीभूत करने वाली हो, कटु न हो और जिसको सुनकर सभी प्रभावित हों, यह पहला सौंदर्य है। दूसरा सौंदर्य- कर्म कर्तव्यनिष्ठ हों, कर्म श्रेष्ठ हों, कर्म ऐसे हों जिनसे सभी का उद्धार हो, कर्म मोक्षदायिनी हों और जीवनोपरांत भटकना न पड़े। तीसरा सौंदर्य- दैहिक, दैविक और भौतिक पदार्थों से इतर सौंदर्य है। इसी में रूप है, जय है, यश है और शत्रुओं का शमन है। शत्रु कब बनते हैं? कटुता से, क्लेश से, उपेक्षा से और ईर्ष्या से। इनका शमन करना ही सौंदर्य है। देवी भगवती कहती हैं कि जो इन सबसे ऊपर उठ जाता है, वही अप्रितम सौंदर्य का स्वामी होता है। वह शताक्षी हैं यानी सौ आंखों से देखती हैं। वह कामाख्या हैं यानी काम को नियंत्रित करती हैं। वह राज-राजेश्वरी हैं यानी राज-सत्ता को कुशल नीतियां प्रदान करती हैं। इहलोक और परलोक की हर सत्ता सौंदर्यमय हो, यही देवी संदेश देती हैं।   

त्रिपुर सुंदरी का स्वरूप
देवी शांत मुद्रा में लेटे हुए सदाशिव के नाभि से निर्गत कमल-आसन पर विराजमान हैं।  चतुर्रभुजी हैं। भुजाओं में देवी पाश, अंकुश, धनुष और बाण हैं। देवी के आसन को ब्रह्मा, विष्णु, शिव तथा यम-राज अपने मस्तक पर धारण करते  हैं। देवी तीन नेत्रों से युक्त एवं मस्तक पर अर्ध चन्द्र धारण करती हैं।

देवी मंत्र और जाप विधि- दश महाविद्या में तीसरी महाविद्या के रूप में देवी त्रिपुर सुंदरी समस्त प्रकार की विपत्तियों को दूर करती हैं। सौंदर्य प्रदान करती हैं। भक्तों को अभय प्रदान करती हैं। गृहस्थों के लिए इनकी सर्वश्रेष्ठ पूजा है। त्रिपुर सुंदरी की पूजा के लिए ऊं श्रीं ऊं या ऊं ह्रीं श्रीं त्रिपुर सुंदरीयै नम: की पांच मालाएं करें। यह जप कमलगट्टे की माला से होगा। पहले पांच दिन पांच मालाएं करें। इसके बाद आप एक माला भी कर सकते हैं। शुक्रवार विशेष मंगलकारी है।

फल प्राप्ति: देवी त्रिपुर सुंदरी की पूजा से श्रेष्ठ गुणों का विकास होता है। साहस आता है। आत्मिक बल मिलता है।  यश और कीर्ति प्राप्त होती है। इहलोक और परलोक सुधरता है। बौद्धिक विकास होता है।
भोग: त्रिपुर सुंदरी को अनार का भोग लगाना चाहिए।
पूजन समय: प्रात: 9 बजे या रात्रि के नौ बजे। साधना की दृष्टि से 9 से 11 बजे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gupt Navaratri 2018 To move forward tripura Sundari worship