ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyGanga Saptami 2024 Date Time shubh yog poojavidhi and significance

Ganga Saptami 2024 :14 या 15 गंगा सप्तमी कब है? जानें सही डेट, मुहूर्त पूजाविधि और महत्व

Ganga Saptami 2024 Date And Time : दृक पंचांग के अनुसार, इस साल 14 मई को गंगा सप्तमी मनाई जाएगी। इस दिन गंगा स्नान, पूजा,पाठ और दान-पुण्य के कार्यों से सुख-सौभाग्य में वृद्धि होती है।

Ganga Saptami 2024 :14 या 15 गंगा सप्तमी कब है? जानें सही डेट, मुहूर्त पूजाविधि और महत्व
Arti Tripathiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 14 May 2024 07:11 AM
ऐप पर पढ़ें

Ganga Saptami Date 2024 : हिंदू धर्म में हर एक पर्व का बड़ा महत्व है। हर साल वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी मनाया जाता है। गंगाजल सप्तमी को गंगा स्नान , पूजा-पाठ और दान-पुण्य के कार्यों बेहद शुभ माने जाते हैं। धार्मिक मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ने मां गंगा के वेक को कम करने के लिए अपनी जटाओं में धारण किया था। यह भी कहा जाता है कि गंगा सप्तमी के दिन ही मां गंगा ने स्वर्ग लोक से भगवान शि के जटाओं में स्थान प्राप्त किया था। इसलिए गंगा सप्तमी का त्योहार बेहद खास माना जाता है। दृक पंचांग के अनुसार, इस साल 14 मई को गंगा सप्तमी मनाई जाएगी। आइए जानते हैं गंगा पंचमी का शुभ मुहूर्त, पूजाविधि और महत्व...

गंगा सप्तमी का शुभ मुहूर्त : दृक पंचांग के अनुसार, 14 मई को सुबह 2 बजकर 50 मिनट पर गंगा सप्तमी का आरंभ होगा और अगले दिन यानी 15 मई को सुबह 4 बजकर 19 मिनट पर समाप्त होगा। इसलिए उदयातिथि के अनुसार, 14 मई को गंगा सप्तमी मनाई जाएगी। इस साल वृद्धि योग, रवि योग और करण योग समेत 3 शुभ संयोग में गंगा सप्तमी मनाई जाएगी। इस दौरान पूजा-पाठ के कार्यों से कई गुना अधिक शुभ फलों की प्राप्ति होगी।

गंगा सप्तमी की पूजन विधि : गंगा सप्तमी के दिन भगवान शंकर और श्रीहरि विषणुजी की पूजा की जाती है। इस दिन शिवलिंग पर गंगाजल से जलाभिषेक करना चाहिए। संभव हो, तो गंगा नदी में स्नान कर सकते हैं। मान्यता है कि इस दिन गंगाजल से स्नान करने से भक्त को सभी दुख-कष्टों और पापों से मुक्ति मिलती है।

गंगा सप्तमी का महत्व: धार्मिक मान्यता है कि गंगा सप्तमी के दिन गंगा पूजन और स्नान-दान के कार्यों से पुण्य-फलों की प्राप्ति होती है और जातक को सभी कष्टों से छुटकारा मिलता है। गंगा पूजन से ग्रहों के अशुभ प्रभावों को भी कम किया जा सकता है और जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।