DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  गणेश चतुर्थी 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इस तरह का होना चाहिए बप्पा का पूजा स्थल

पंचांग-पुराणगणेश चतुर्थी 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इस तरह का होना चाहिए बप्पा का पूजा स्थल

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Anuradha
Thu, 22 Aug 2019 11:54 AM
गणेश चतुर्थी 2019: इस दिन है गणेश चतुर्थी, इस तरह का होना चाहिए बप्पा का पूजा स्थल

10 दिन तक चलने वाला गणेश चतुर्थी उत्सव 2 सितंबर से शुरू होगा। गणेश चतुर्थी पर लोग अपने घरों में गणेश भगवान को विराजमान करते हैं और गणेश चतुर्थी के दिन उनका विसर्जन किया जाता है। लोक 11, 7 दिन के लिए घर में गणपति को विराजमान करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि बप्पा इन दिनों में अपने भक्तों के सभी दुख दूर करके ले जाते हैं। 

गणपति की प्रतिष्ठापना
गजानन को लेने जाएं तो नवीन वस्त्र धारण करें। इसके बाद हर्षोल्लास के साथ उनकी सवारी लाएं। घर में लाने के बाद चांदी की थाली में स्वास्तिक बनाकर उसमें गणपति को विराजमान करें। चांदी की थाली संभव न हो पीतल या तांबे का प्रयोग करें।  घर में विराजमान करें तो मंगलगान करें, कीर्तन करें। लड्डू का भोग भी लगाएं। इसके बाद रोज सुबह -शाम उनकी आरती करें और मोदक का भोग लगाएं और अंतिम दिन विसर्जन करें।

ऐसा हो पूजा स्थल
आज आप इस समय अपने घर गणपति को विराजमान करें। कुमकुम से स्वास्तिक बनाएं। चार हल्दी की बंद लगाएं। एक मुट्ठी अक्षत रखें। इस पर छोटा बाजोट, चौकी या पटरा रखें। लाल, केसरिया या पीले वस्त्र को उस पर बिछाएं। रंगोली, फूल, आम के पत्ते और अन्य सामग्री से स्थान को सजाएं। तांबे का कलश पानी भर कर, आम के पत्ते और नारियल के साथ सजाएं। यह तैयारी गणेश उत्सव के पहले कर लें। 
 

संबंधित खबरें