ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyGanadhipa Sankasthi Chaturthi 2023 date and remedies to please lord ganesha

Sankasthi Chaturthi : 29 या 30 नंवबर , कब है गणाधिप संकष्टी चतुर्थी ? इन उपायों से दूर होंगे सभी कष्ट

Ganadhipa Sankasthi Chaturthi 2023 : नवंबर महीने के आखिरी दिन यानी 30 नवंबर 2023 को गणाधिप संकष्टी चतुर्थी है। मान्यता है कि इस दिन गणेश जी की पूजा-अराधना से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Sankasthi  Chaturthi : 29 या 30 नंवबर , कब है गणाधिप संकष्टी चतुर्थी ? इन उपायों से दूर होंगे सभी कष्ट
Arti Tripathiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 Nov 2023 06:08 AM
ऐप पर पढ़ें

Ganadhipa Sankasthi Chaturthi 2023 Date : हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को गणाधिप संकष्टी चतुर्थी मनाई जाती है। इस दिन गणेशजी की पूजा का विधान है। गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन व्रत-पूजन से गणेश जी प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मुरादें पूरी करते हैं। इस शुभ दिन गणेश जी के साथ चंद्रदेव की पूजा का भी बड़ा महत्व है। ऐसे में आइए जानते हैं कि गणाधिप संकष्टी चतुर्थी की सही डेट और कष्टों से निवारण पाने के विशेष उपाय...

गणाधिप संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त : पंचांग के अनुसार,मार्गशीर्ष माह शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि की शुरुआत 30 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 44 मिनट पर होगी और  1 दिसंबर  2023 को  दोपहर 3 बजकर 31 मिनट पर समाप्त होगी। गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन चंद्रदेव  को जल अर्घ्य दिए बिना व्रत अधूरा माना जाता है। इसलिए इस साल 30 नंवबर 2023 को गणाधिप संकष्टी चतुर्थी मनाई जाएगी।

गणेश जी को प्रसन्न करने के उपाय : गणाधिप संकष्टी चतुर्थी पर गणेशजी की पूजा-अराधना के साथ उन्हें प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय भी किए जाते हैं। मान्यता है कि इन उपायों से जातक केसभी दुख दूर होते हैं और गणेशजी की हमेशा अपने भक्तों पर मेहरबान रहते हैं।

गणेश जी को दूर्वा चढ़ाएं : गणेशजी को दूर्वा बहुत प्रिय है। गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश को पांच दूर्वा अर्पित करें। ध्यान रखें कि दूर्वा हमेशा गणेशजी के चरणों में रखना चाहिए। इससे कभी भी उनके मस्तक पर ना रखें।

सिंदूर का तिलक लगाएं : पूजा के दौरान गणेशजी को सिंदूर का तिलक लगाएं और अपने माथे पर भी तिलक करें। मान्यता है कि ऐसा करने से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं और जातक की सभी विघ्न-बाधा से रक्षा करते हैं।

इन मंत्रों का जाप करें : संकष्टी चतुर्थी के दिन पूजा के दौरान गणेश स्तोत्र का पाठ करें और ऊँ श्रीं ऊँ ह्रीं श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः मंत्र की 11 माला का जाप करें। मान्यता है कि इस उपाय से गणेशजी की कृपा हमेशा बनी रहती है और घर में कभी भी धन की तंगी का सामना नहीं करना पड़ता है।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें