ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyFirst phase of Shani Sade Sati on Pisces what changes happen in life in 2024 and how Shanidev will give result

मीन राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण: जानें 2024 में जीवन में क्या होंगे बदलाव और कैसे परिणाम देंगे शनिदेव

Shani Sade Sati on Meen Rashi: शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण मीन राशि वालों पर चल रहा है। नए साल 2024 में शनिदेव मीन राशि के जातकों पर क्या प्रभाव डालेंगे, यहां जानें-

मीन राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण: जानें 2024 में जीवन में क्या होंगे बदलाव और कैसे परिणाम देंगे शनिदेव
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 09 Dec 2023 05:38 AM
ऐप पर पढ़ें

Shani 2024 Rashifal: ग्रहों के न्यायदेवता व कर्मफलदाता शनिदेव वर्तमान में कुंभ राशि में विराजमान हैं। शनि ने कुंभ राशि में 17 जनवरी 2023 को प्रवेश किया था। शनि के कुंभ राशि में आने से धनु राशि के जातकों को शनि की साढ़ेसाती से मुक्ति मिल गई है और मीन राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती प्रारंभ हुई थी। शनि की साढ़ेसाती किसी भी राशि में साढ़े सात वर्ष तक रहती है। कुंभ राशि में शनि के होने से मीन राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण चल रहा है। जानें साल 2024 में मीन राशि वालों को क्या परिणाम देंगे शनिदेव और किन मामलों में सतर्कता बरतने की जरूरत है-

2 जनवरी को बुध होंगे मार्गी, नए साल की शुरुआत में इन 3 राशि वालों का चमकेगा भाग्य

शनि कब करेंगे मीन राशि में प्रवेश: शनि 30 मार्च 2025 को अपनी स्वराशि कुंभ से निकलकर मीन राशि में प्रवेश करेंगे। शनि के मीन राशि में आने से इस राशि पर शनि की साढ़ेसाती का दूसरा चरण प्रारंभ होगा।

2024 में मीन राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती के पहले चरण का प्रभाव- 2024 में मीन राशि के जातकों को अपने खर्चों पर नियंत्रण रखना चाहिए। नए साल में किसी भी तरह का बेवजह का खर्च न करें। इसके साथ ही किसी भी व्यक्ति पर जल्दी से विश्वास करने से बचना चाहिए, वरना आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है। शत्रु, कोर्ट-कचहरी, रोग व लीगल चीजों से आपको खासतौर पर बचकर रहना होगा। शनि की साढ़ेसाती आपके अंदर मैच्योरिटी लेकर आएगी और आपको सच का सामना करवाएगी।

15 जनवरी 2024 को सूर्य का महागोचर, मेष व कुंभ समेत इन 5 राशि वालों के लिए एक महीना वरदान समान

शनि की साढ़ेसाती के होते हैं तीन चरण- शनि की साढ़ेसाती के तीन चरण होते हैं। शनि की साढ़ेसाती के दौरान जातक को आर्थिक, शारीरिक व मानसिक कष्टों का सामना करना पड़ता है। शनिदेव के प्रकोप से बचने के लिए जातक को शनिदेव के बीज मंत्र का जाप करना चाहिए। इसके साथ ही शनिदेव से संबंधित चीजें जैसे लोहा, तेल आदि का दान करना भी लाभकारी माना गया है।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें