ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologyfalgun amalaki rangbhari ekadashi kab hai date time puja vidhi shubh muhrat

अमालिका या रंगभरी एकादशी कब है? नोट कर लें डेट, पूजा-विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री लिस्ट

Ekadashi Kab Hai : हिंदू धर्म में एकादशी का बहुत अधिक महत्व होता है।  वैसे तो एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित हैं। मगर रंगभरी एकादशी ही एकमात्र एकादशी है जिसका संबंध भगवान शिव से है।

अमालिका या रंगभरी एकादशी कब है? नोट कर लें डेट, पूजा-विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री लिस्ट
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 26 Feb 2024 05:39 AM
ऐप पर पढ़ें

Rangbhari Ekadashi 2024 : फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को आमलकी एकादशी या रंगभरी एकादशी के नाम से जाना जाता है। हिंदू धर्म में एकादशी का बहुत अधिक महत्व होता है।  वैसे तो एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित हैं। मगर यह एकमात्र एकादशी है जिसका संबंध भगवान शिव से है। इसलिए काशी विश्वनाथ वाराणसी में इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की विशेष पूजा होती है। मान्यता है कि इसी दिन बाबा विश्व नाथ माता गौरा का गोना कराकर पहली बार काशी आए थे। तब उनका स्वागत रंग गुलाल से हुआ था। इसी दिन भगवान विष्णु के साथ आंवले के पेड़ की भी पूजा की जाती है। इस साल रंगभरी या आमलकी एकादशी 14 मार्च को पड़ रही है। आइए जानते हैं आमलकी या रंगभरी एकादशी एकादशी डेट, पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री की लिस्ट- 

अमालिका या रंगभरी एकादशी एकादशी डेट- 20 मार्च. बुधवार

 मुहूर्त- 

  • एकादशी तिथि प्रारम्भ - मार्च 20, 2024 को 12:21 ए एम बजे

  • एकादशी तिथि समाप्त - मार्च 21, 2024 को 02:22 ए एम बजे

पारणा टाइम- 

  • पारण (व्रत तोड़ने का) समय - 21 मार्च को 01:47 पी एम से 04:12 पी एम तक

  • पारण तिथि के दिन हरि वासर समाप्त होने का समय - 08:58 ए एम

भगवान शिव को प्रिय हैं ये 3 राशियां, इन राशियों पर हमेशा शंकर जी रहते हैं मेहरबान

एकादशी पूजा- विधि- 

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करें।
  • भगवान शंकर और माता पार्वती का जल से अभिषेक करें।
  • अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
  • भगवान की आरती करें। 
  • भगवान को भोग लगाएं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल करें। ऐसा माना जाता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते हैं। 
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी करें। 
  • इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।

हनुमान जी इन 4 राशियों पर रहते हैं मेहरबान, मां लक्ष्मी की भी रहती है विशेष कृुपा, धन के मामले में होते हैं भाग्यशाली

एकादशी व्रत पूजा सामग्री लिस्ट

  • श्री विष्णु जी का चित्र अथवा मूर्ति
  • पुष्प
  • नारियल 
  • सुपारी
  • फल
  • लौंग
  • धूप
  • दीप
  • घी 
  • पंचामृत 
  • अक्षत
  • तुलसी दल
  • चंदन 
  • मिष्ठान

शिव जी और माता पार्वती की पूजा सामग्री- पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें,तुलसी दल, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें