ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyEkadashi Devuthani Ekadashi in Sarvartha Siddhi Yoga know the shubh muhurat puja vidhi vrat niyam

देवउठनी एकादशी पर सर्वार्थ सिद्धि योग, जानें पूजा विधि, मुहूर्त और व्रत नियम

Dev Uthani Ekadashi: इस साल गुरुवार को देवउठनी एकादशी शुभ योगों में मनायी जाएगी। इस दिन पूरी श्रद्धा के साथ श्री हरी विष्णु की आराधना करने से दुखों का नाश होता है साथ ही समृद्धि का वास होता है।

देवउठनी एकादशी पर सर्वार्थ सिद्धि योग, जानें पूजा विधि, मुहूर्त और व्रत नियम
Shrishti Chaubeyलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 23 Nov 2023 10:33 AM
ऐप पर पढ़ें

Dev Uthani Ekadashi 2023: 23 नवंबर के दिन देवउठनी एकादशी व्रत रखा जाएगा। हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर देवउठनी एकादशी का व्रत रखा जाता है। देवउठनी एकादशी का व्रत भगवान विष्णु को समर्पित है। ऐसी मान्यता है कि देवउठनी एकादशी पर 4 महीने से निद्रा में लुप्त विष्णु भगवान जागते हैं और संसार के पालनहार का दायित्व संभालते हैं। वहीं, इस साल सर्वार्थ सिद्धि योग में देवउठनी एकादशी मनाई जाएगी। इसलिए आइए जानते हैं देवउठनी एकादशी पूजन शुभ मुहूर्त, विधि और व्रत पारण समय और नियम-

Tulsi विवाह पूजा की सही व संपूर्ण विधि

सर्वार्थ सिद्धि योग में देवउठनी एकादशी?
इस साल देवउठनी एकादशी पर शुभ संयोग बन रहा है। सर्वार्थ सिद्धि योग और रवि योग जैसे शुभ योगों में देवउठनी एकादशी का व्रत रखा जाएगा और पूजा-पाठ की जाएगी। वहीं, गुरुवार के दिन देवउठनी एकादशी पड़ने से इस दिन का महत्व काफी बढ़ जाता है। 

देवउठनी एकादशी शुभ मुहूर्त
कार्तिक मास, शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि की शुरुआत: 22 नवंबर, रात 11 बजकर 03 मिनट
कार्तिक मास, शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि समाप्त: 23 नवंबर, रात 09 बजकर 00 मिनट  
रवि योग- 06:50 ए एम - 05:16 पी एम
सर्वार्थ सिद्धि योग- 05:16 पी एम - 06:51 ए एम, नवंबर 24
पूजा शुभ मुहूर्त-  सुबह 5:03 से 9 बजे तक, नवंबर 23
व्रत पारण समय- 24 नवंबर, 06:53 ए एम से 08:50 ए एम तक

देवउठनी एकादशी पर करें 4 उपाय, विष्णु जी की कृपा से भर जाएगी तिजोरी

देवउठनी एकादशी पूजा-विधि 
1. स्नान आदि कर मंदिर की साफ सफाई करें
2. भगवान श्री हरि विष्णु का जलाभिषेक करें
3. प्रभु का पंचामृत सहित गंगाजल से अभिषेक करें
3. विष्णु भगवान को पीला चंदन और पीले पुष्प अर्पित करें
4. मंदिर में घी का दीपक प्रज्वलित करें
5. संभव हो तो व्रत रखें और व्रत संकल्प करें
6. देवउठनी एकादशी की व्रत कथा का पाठ करें
7. ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें
8. पूरी श्रद्धा के साथ भगवान श्री हरि विष्णु और लक्ष्मी जी की आरती करें
9. प्रभु को तुलसी दल सहित भोग लगाएं
10. अंत में क्षमा प्रार्थना करें

23 या 24 नवंबर, तुलसी विवाह कब है? आज ही नोट कर लें डेट, पूजा मुहूर्त, विधि और सामग्री

देवउठनी  एकादशी नियम 
देवउठनी एकादशी के दिन चावल का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। ऐसा माना जाता है इस दिन जो व्यक्ति चावल का सेवन करता है, रेंगने वाले जीव की योनि में उसका जन्म होता है। वहीं, इस दिन तुलसी की पत्तियों को तोड़ने से बचें। देवउठनी एकादशी के दिन चाहे आपने व्रत रखा हो या न रखा हो, इस दिन मास-मदिरा का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। 

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें