DA Image
Wednesday, December 8, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मEkadashi 2021 Kab Hai: नवंबर में आएंगी 3 एकादशी तिथियां, नोट कर लें डेट, नाम, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

Ekadashi 2021 Kab Hai: नवंबर में आएंगी 3 एकादशी तिथियां, नोट कर लें डेट, नाम, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSaumya Tiwari
Sun, 31 Oct 2021 07:09 AM
Ekadashi 2021 Kab Hai: नवंबर में आएंगी 3 एकादशी तिथियां, नोट कर लें डेट, नाम, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का खास महत्व होता है। एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। मान्यता है कि एकादशी व्रत रखने वाले भक्त सभी सुखों को भोगकर अंत में मोक्ष की प्राप्ति करते हैं। 

हर महीने कम से कम एकादशी व्रत रखे जाते हैं। पहला कृष्ण पक्ष और दूसरा शुक्ल पक्ष में। नवंबर महीने में तीन एकादशी तिथि पड़ रही है। धार्मिक रूप से एक महीने में तीन एकादशी तिथियों का आना बेहद शुभ माना जा रहा है। जानिए नवंबर में कब-कब रखा जाएगा एकादशी व्रत-

29 अक्टूबर को कुंभ समेत इन राशि वालों का मन रहेगा अशांत, इनके बनेंगे बिगड़े काम, पढ़ें मेष से मीन राशि तक का हाल

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, एक महीने में तीन एकादशी तिथियां बहुत कम आती हैं। नवंबर 2021 में 1, 15 और 30 तारीख को एकादशी तिथि पड़ रही हैं। मान्यता है कि इस दिन विधि-विधान से व्रत व भगवान विष्णु का पूजन करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

गुरु-पुष्य योग में आज अहोई अष्टमी का व्रत, नोट कर लें पूजा का शुभ समय

1 नवंबर को रमा एकादशी व्रत-

इस साल पंचांग के अनुसार, कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी  की शुरुआत 31 अक्टूबर को दोपहर 02 बजकर 27 मिनट से हो रही है, जो अगले दिन 01 नवंबर को दोपहर 01 बजकर 21 मिनट तक है। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहते हैं। 

धनतेरस पर पूजन के बन रहे कई शुभ मुहूर्त, ज्योतिषाचार्य से जानिए खरीदारी का उत्तम समय

एकादशी पूजा- विधि-

सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं।
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें।
भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करें।
अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
भगवान की आरती करें। 
भगवान को भोग लगाएं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल करें। ऐसा माना जाता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते हैं। 
इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी करें। 
इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें