ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyDiwali 2023 Swati Nakshatra and Saubhagya Yoga know Lakshmi Ganesh and Kuber Pujan Vidhi and Muhurat

Diwali Pujan Time: स्वाति नक्षत्र व सौभाग्य योग में दीवाली 12 नवंबर को, जानें लक्ष्मी-गणेश व कुबेर पूजन विधि व समय

Diwali Pujan Vidhi 2023: दिवाली का पर्व इस साल 12 नवंबर 2023, रविवार को है। इस दिन भगवान गणेश व मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। आप भी जान लें विधि व पूजन मुहूर्त-

Diwali Pujan Time: स्वाति नक्षत्र व सौभाग्य योग में दीवाली 12 नवंबर को, जानें लक्ष्मी-गणेश व कुबेर पूजन विधि व समय
Saumya Tiwariप्रमुख संवाददाता,वाराणसीFri, 10 Nov 2023 09:19 AM
ऐप पर पढ़ें

Deepawali, Diwali Pujan Vidhi and Muhurat 2023: दीपावली महापर्व 12 नवंबर को मनाया जाएगा जबकि कार्तिक अमावस्या दो दिन है। नरक चतुर्दशी और छोटी दीपावली 11 को मनायी जाएगी। अन्नकूट 14 और काशी में गोवर्धन पूजा 15 नवंबर को मनाया जाएगा। अन्यत्र 14 नवंबर को होगा। कार्तिक कृष्ण द्वितीया, भईया दूज और चित्रगुप्त पूजन पर्व भी 15 नवंबर को है।

सोमवार को प्रदोष काल में अमावस्या ज्योतिषाचार्य पं. ऋषि द्विवेदी ने बताया कि इस वर्ष 12 नवंबर को दिन में 0212 बजे से कार्तिक अमावस्या तिथि लगेगी जो 13 नवंबर को दिन में 0249 बजे तक रहेगी। अत 12 नवंबर को प्रदोष काल में अमावस्या होने से उसी दिन दीपावली मनायी जाएगी। इस बार महापर्व पर स्वाति नक्षत्र एवं सौभाग्य योग का अद्भुत संयोग भी बन रहा है। 13 नवंबर को अमावस्या होगी।

धनतेरस पर भूलकर भी न खरीदें ये 8 चीजें, पीछे लग सकता है बुरा समय

मां काली का पूजन बंगीय समाज 12 नवंबर को निशिथ काल में महाकाली पूजन करेगा। दीपावली पर सायंकाल देव मंदिरों में दीपदान किया जाता है। व्यापारी वर्ग इस रात्रि शुभ तथा स्थिर लग्न में अपने प्रतिष्ठान की उन्नति के लिए महालक्ष्मी का पूजन करते हैं।

स्वयं सिद्ध मुहूर्त दीपावली कार्तिक अमावस्या दीपावली स्वयं सिद्ध मुहूर्त है। इस दिन कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है।

लक्ष्मी-गणेश व कुबेर पूजन

घरों में इस रात्रि लक्ष्मी-गणेश व कुबेर का पंचोपचार या षोडशोपचार पूजन होता है। माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए त्रिसूक्तम, कनकधारा स्तोत्र, लक्ष्मी चालीसा, लक्ष्मी मंत्र, हवन करना चाहिए। इससे महालक्ष्मी धन-धान्य, सौभाग्य, प्रभुत्व, ऐश्वर्य का वरदान देती हैं। दीपावली पर प्रात हनुमान जी के दर्शन का विधान है।

धनतेरस पर घर के इन 13 स्थानों पर जरूर जलाएं दीपक, हर कष्ट से मिलेगी मुक्ति

धनतेरस का स्थिर लग्न मुहूर्त: धनतेरस पर पूजा-पाठ के अलावा शुभ वस्तुओं की खरीदारी का विधान है। इसी दिन व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में बही-खाता भी बदला जाएगा। धनतेरस पर खरीदारी का शुभ मुहूर्त स्थिर लग्न में है। शुक्रवार को स्थिर लग्न कुम्भ में दोपहर 12:49 से 2:20 बजे तक शुभ चौघड़िया, स्थिर लग्न वृष में शाम 526 से 723 बजे तक और स्थिर लग्न सिंह में रात 11:55 से 2:08 बजे तक खरीदारी शुभ रहेगी। धनतेरस पर महालक्ष्मी के स्वागत में घर-आंगन, प्रतिष्ठान जगमग हो जाएंगे। रंगोलियां सजाई जाएंगी। बहुरंगी वंदनवार सुशोभित होंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें