DA Image
22 फरवरी, 2020|12:38|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Diwali 2019:12 वर्ष बाद बना चतुर्दशी और अमावस्या का अद्भुत संयोग, जानें क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

choti diwali 2019 wishes

दीपपर्व यानि दीपावली रविवार को मनाई जाएगी। इस बार कई वर्षों के बाद दर्श अमावस्या में दीपावली मनाई जाएगी। इस दिन गुरु वृश्चिक राशि में रहेंगे। वहीं सूर्य और चंद्र तुला राशि रहेंगे। 

साल 2007 में बना था ऐसा योग-
इससे पहले भी गुरु के वृश्चिक में रहते हुए चतुर्दशी और अमावस्या के योग में दीपावली मनाई गई थी। 12 वर्ष पहले आठ नवंबर 2007 को भी ऐसा ही योग आया था। उस समय भी शनि और केतु की युति थी, लेकिन ये ग्रह सिंह राशि में स्थित थे। 23 अक्टूबर 1995 को गुरु वृश्चिक राशि में था और तब भी चतुर्दशी युक्त अमावस्या तिथि पर दीपावली का पर्व मनाया गया था। आचार्य गौरव शास्त्री ने बताया कि यह दीपावली सभी राशियों के लिए बेहद शुभ व फलदायक साबित होगी।

पूजा का शुभ मुहूर्त-
रविवार को शाम 6 बजकर 4 मिनट से 8 बजकर 36 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है। व्यापारियों के लिए 8 से दस बजे तक पूजा श्रेष्ठ मानी गई है।

दिवाली का आरती-

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Diwali 2019 timing and subh muhurat Amazing combination of Chaturdashi and Amavasya on Diwali 2019 after 12 years know what is the auspicious time of worship goddess laxmi