Diwali 2018: this is diwali Pooja time lakshmi will stay at your door - Diwali 2018: इस लग्न में करें दिवाली पूजन, लक्ष्मी जी ठहरेंगी आपके द्वार DA Image
12 नबम्बर, 2019|9:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Diwali 2018: इस लग्न में करें दिवाली पूजन, लक्ष्मी जी ठहरेंगी आपके द्वार

Diwali 2018: diwali Pooja time कार्तिक कृष्ण पक्ष अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है। यह महागणपति , महालक्ष्मी एवं महाकाली की पौराणिक अथवा तांत्रिक विधि से साधना-उपासना का परम पवित्र पर्व है। इस दिन उद्योग-धंधे के साथ-साथ नवीन कार्य करने एवं पुराने व्यापार में खाता पूजन का विशेष विधान है।  ज्योतिर्विद पं.दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार अमावस्या तिथि 06 नवम्बर दिन मंगलवार को ही रात में 10 बजकर 06 मिनट से लग जा रही है जो 07 नवम्बर 2018 दिन बुधवार को रात में 09 बजकर 19 मिनट तक रहेगी, इस प्रकार उदया तिथि में अमावस्या का मान सूर्योदय से ही मिल रहा है।

Happy diwali 2018: दिवाली पर शेयर करें मा लक्ष्मी की ये तस्वीरें, दें शुभकामनाएं मैसेज

साथ ही प्रदोष काल का भी बहुत ही उत्तम योग मिल रहा है।  इस प्रकार प्रदोष काल में दीपावली पूजन का श्रेष्ठ विधान है तथा प्रदोष काल में ही दीप प्रज्वलित करना उत्तम फल दायक होता है।
 ज्योतिर्विद् पं.दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली ने बताया कि दिन-रात के संयोग काल को ही प्रदोष काल कहते है, जहां दिन विष्णु स्वरुप है वहीँ रात माता लक्ष्मी स्वरुपा हैं ,दोनों के संयोग काल को ही प्रदोष काल कहा जाता है।

Happy diwali: दिवाली पर ऐसे भेजें अपने दोस्तों को ये शुभकामना संदेश        

ज्योतिर्विद पं.दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली कहते है कि धर्म शास्त्रों के अनुसार दीपावली के पूजन में प्रदोष काल अति महत्त्व पूर्ण होता है । इसके अतिरिक्त इस दिन सूर्योदय से स्वाति नक्षत्र पूरा दिन व्याप्त रहेगी। साथ ही सूर्योदय से रात 07:24तक आयुष्मान योग तथा धूम्र योगा व्याप्त रहेगा। बुधवार के दिन दीपावली एवं अमावस्या का पूजन बाजार जगत के लिए उत्तम  एवं शुभदायक होगा।

Diwali 2018:मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए बनाएं ये Rangoli Design
  

ज्योतिर्विद् पं.दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार धर्मशास्त्रोक्त दीपावली 'प्रदोष काल एवं महानिशीथ काल व्यापिनी अमावस्या में विहित है, जिसमे प्रदोष काल का महत्त्व गृहस्थों एवं व्यापारियों हेतु महत्त्वपूर्ण होता है और महानिशीथ काल का तान्त्रिकों के लिए उपयुक्त होता है। इस वर्ष अमावस्या  व्यापिनी महानिशिथ काल का आभाव है। वैसे महानिशीथ काल की पूजा स्थिर लग्न सिंह में मध्यरात्रि 12:09 से 02:23 बजे के मध्य की जा सकती है । इस प्रकार निशा पूजा काली पूजा तांत्रिक पूजा के लिए स्थिर सिंह में किया जाएगा जो अति महत्त्वपूर्ण,अति शुभ एवं कल्याणकारी मुहुर्त्त है। शेष रात्रि भोर में सूप बजाकर दरिद्र का निस्तारण एवं लक्ष्मी का प्रवेश कराया जाएगा।
  प्रदोष काल शाम 05:42 से 07:37 बजे तक रहेगा। 

diwali 2018: दिवाली पर पढ़ें लक्ष्मी जी की आरती

पूजन एवं खाता पूजन हेतु शुभ मुहूर्त्त 
(2) दिन में स्थिर लग्न कुम्भ दिन में 01:06 से 02:34 बजे तक रहेगा |
  

(1) प्रदोष काल व्यापिनी स्थिर लग्न वृष शाम को 05:42 बजे से लेकर 07:38 बजे तक विद्यमान रहेगा। 

Diwali 2018: इस बार दीवाली पर दुर्लभ संयोग, जीवनभर देगा सुख आयुष्मान योग
 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Diwali 2018: this is diwali Pooja time lakshmi will stay at your door