ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyDhanteras 2023 date and time What is the best time of Lakshmi pujan to ger permanent this Dhanteras

Dhanteras 2023 date and time: धनतेरस पर आज किस लग्न में करें पूजा, मां लक्ष्मी का हो जाए हमेशा के लिए वास

Dhanteras time of Lakshmi pujan:आज शुक्रवार को सुबह के 11:47 बजे से त्रयोदशी तिथि शुरू हो रही है। धनतेरस का दिन कुबेर, माता लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। इस दिन इनकी पूजा से आरोग्य, धन

Dhanteras 2023 date and time: धनतेरस पर आज किस लग्न में करें पूजा, मां लक्ष्मी का हो जाए हमेशा के लिए वास
Anuradha Pandeyलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 10 Nov 2023 06:51 AM
ऐप पर पढ़ें

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस मनाया जाता है। इस वर्ष धनतेरस 10 नवंबर 2023 को मनाया जाएगा।धनतेरस से दिवाली के पर्व की शुरुआत हो जाती है। इस बार शुक्रवार को सुबह के 11:47 बजे से त्रयोदशी तिथि शुरू हो रही है। 2023 में धनतेरस मनाने का शुभ समय 10 नवंबर को दोपहर 12:35 बजे शुरू होगा और 11 नवंबर को दोपहर 01:57 बजे समाप्त होगा। इसलिए, धनतेरस 10 नवंबर को मनाया जाएगा। धनतेरस पूजा मुहूर्त आज शाम 05:47 बजे से शाम 07:43 बजे तक है। इस दिन सोना, चांदी, बर्तन आदि खरीदने की परंपरा है।

त्रयोदशी Dhanteras Muhurat: कहा जाता है कि धनतेरस पर शुभ वस्तुओं की खरीदारी से 13 गुना धन की वृद्धि होती है। अब सवाल आता है कि धनतेरस पर किस तरह पूजा करें कि मां लक्ष्मी का स्थायी वास आपके घर में हो जाए, तो आपको बताते हैं कि हिन्दू मान्यताओं के अनुसार गोधूली बेला व स्थिर लगन में मां लक्ष्मी की पूजा से मां उस स्थान पर सदा के लिए विराजमान हो जाती हैं। शाम को धनतेरस पूजा करना चाहते हैं तो गोधुली का मुहूर्त शाम 5:30 से 7:27 तक है, जबकि खरीदारी दोपहर से देर रात तक कर सकेंगे।

Dhanteras kya karein: धनतेरस का दिन कुबेर, माता लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। इस दिन इनकी पूजा से आरोग्य, धन, समृद्धि, वैभव व कृति की प्राप्ति होती है। धनतेरस के दिन जो कुछ भी आप खरीद कर ला रहे हैं, उसे आपको दिवाली पूजन में रखना चाहिए। दिवाली में पूजा के बाद ही उसका इस्तेमाल करना चाहिए, तभी बरकत होती है,इससे पहले उसे पूजा स्थल में ही रखकर छोड़ दें। इसी दिन परिवार के किसी भी सदस्य की असामयिक मृत्यु से बचने के लिए मृत्यु के देवता यमराज के लिए घर के बाहर दीपक जलाया जाता है जिसे यम दीपम के नाम से जाना जाता है।

 

 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें